परेशानी:बारिश से बने गहरे गड्ढे, हर समय बना रहता है हादसे का डर, वन मंत्री ने दिए सड़कें दुरुस्त कराने के निर्देश

सांचौर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले भर में सड़कों की स्थिति खराब, वाहन चालक समेत आमजन को आगमन में हाे रही परेशानी

जिले में बारिश के बाद क्षेत्र की सड़कें बदहाल हैं, लेकिन जिम्मेदार विभाग के अधिकारी आंख मूंदकर बैठे हैं। जिससे लोगों को परेशानी हो रही हैं। टूटी सड़क ओर उन पर बनें गहरे गड्ढो से हादसे की आशंका बनी रहती हैं। सोमवार को यहां पंचायत समिति परिसर में हुई जनसुनवाई के दौरान वनमंत्री एवं पर्यावरण मंत्री सुखराम विश्नोई ने भी अधिकारियों को जल्द सड़कें दुरुस्त करवाने के निर्देश दिए हैं।

इधर, शहर से गुजरने वाले नेशनल हाईवे पर पानी निकासी की माकूल व्यवस्था नही होने से करीब 100 फीट के क्षेत्र का हाईवे टूट गया है। बारिश के सीजन के दौरान हाईवे को पार करना जान जोखिम में डालना है। जानकारी के मुताबिक हाइवे के किनारे निजी होटलों व अस्पतालों का बारिश का पानी की निकासी नहीं होने से हाईवे पानी आता हैं। मामला हाईवे ऑथोरिटी व प्रशासन की जानकारी में होने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नहीं हो रही है।

हाईवे पर पानी एकत्रित होने से गहरे गड्ढो में तब्दिल हुए हाईवे को ठीक करने की बजाज प्रशासन द्वारा बैरिकेट लगाकर खानापूर्ति कर दी गई है। ऐसे में इस रास्ते से गुजरने वाले वाहनो को भारी परेशानी हो रही है। मामले को लेकर स्थानीय लोगो ने स्थानीय प्रशासन व जिला प्रशासन को भी अवगत करवाया हैं। इसके बावजूद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

बरसात के पानी की निकासी की व्यवस्था नहीं होने से राहगीरों को करना पड़ता है परेशानी का सामना

शहर के नेशनल हाईवे 68 के कमालपुरा सरहद में बने वाणिज्य भवनों के निर्माण में न तो हाईवे ऑथोरिटी के नियमों को ध्यान रखा गया है और न ही नगरपालिका द्वारा जारी किये निर्देशों की पालना की गई है। ऐसे में बारिश के दौरान जाने वाले पानी की निकासी के लिये कोई नाले का निर्माण किया गया है।

निर्माण के दौरान ढलान हाईवे की ओर करके कार्य को पूरा कर लिया गया है। जिससे होटलों व हॉस्पीटल दोनों का पानी नेशनल हाईवे पर आ जाता है। इससे ट्राॅफिक व्यवस्था भी कई बार बिगड़ जाती हैं। इससे जाम की स्थिति भी बनती हैं।

  • नेशनल हाइवे कई जगह से टूट गया है, इसकी जानकारी नेशनल हाइवे बाड़मेर को दीं है। जिसकी मरम्मत व अतिक्रमण हटाने की करवाई हाइवे ऑथोरिटी करेगी। - ओमप्रकाश सुथार, सहायक अभियंता सार्वजनिक विभाग, सांचौर
  • हाइवे पर पर अतिक्रमण व पानी छोड़ने की शिकायत मिल रही हैं, जिसको लेकर मरम्मत कार्य करने वाली टीम को भेज कर पाबंद करवाएंगे। बारिश रूकने के बाद पेच निकालने का कार्य शुरू करेंगे। - जितेंद्र चौधरी, अधिशाषी अधिकारी, नेशनल हाइवे ऑथोरिटी बाडमेर

भूति गांव में क्षतिग्रस्त रोड़ पर गहरे गड्ढे, जिम्मेदार अधिकारी बेखबर

क्षैत्र में सड़कें क्षतिग्रस्त हैं। लेकिन जिम्मेदार अधिकारी आंख मूंदकर बैठे हैं। सड़क पर बनें गड्ढो से आए दिन हादसे हो रहे हैं। राजकीय उप स्वास्थ्य केंद्र से वलदरा के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय तक का तीन किलोमीटर सड़क बदहाल है। तीन किलोमीटर लंबी इस सड़क का पुनर्निर्माण लंबे समय से नही हुआ हैं। जबकि टूटी सड़क पर सैकड़ों भारी-हल्के वाहन रोजाना गुजरते हैं।

इन दिनों किसानों के लिए यह सड़क गले की फांस बनी हुई है। इस समय खरीफ फसलों की बुवाई व खेतों से मंडियों तक जाने वाली अपनी सड़क टूटने की चरम सीमा पर है। किसानों को भी परेशानी उठानी पड़ रही हैं। कई बार सड़क से गुजरते समय ट्रॉली के बैरिंग भी टूट जाते है।

लोगों के अनुसार सड़क की मरम्मत पिछली जनवरी में करवाई गई थी। बावजूद इसके सड़क में कई गड्ढे तो इतने गहरे बन चुके हैं कि एक कार इसमें से आसानी से नहीं निकल पाएगी। ग्रामीणों ने जल्द सड़क को दुरुस्त करवाने की मांग की हैं।

खबरें और भी हैं...