वैक्सीन का बहिष्कार कर दिया धरना:अनोप मंडल के कार्यकर्ताओं ने की भीड़ एकत्रित, सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का नहीं रखा ध्यान, मामला दर्ज

सिरोहीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिरोही कलेक्ट्रेट पर धरना-प्रदर्शन में शामिल हुए लोगों ने कोरोना गाइडलाइन की खुलेआम धज्जियां उड़ाई। - Dainik Bhaskar
सिरोही कलेक्ट्रेट पर धरना-प्रदर्शन में शामिल हुए लोगों ने कोरोना गाइडलाइन की खुलेआम धज्जियां उड़ाई।

अनोप मंडल के कुछ कार्यकर्ताओं के खिलाफ कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाने पर मामला दर्ज किया गया है। सार्वजनिक स्थान पर बिना अनुमति भीड़ इकट्ठी करने, भीड़ के द्वारा मास्क का उपयोग नहीं करने और सोशल डिस्टेंसिंग​ नियम तोड़ने का मामला दर्ज किया गया है।

दरअसल अनोप मंडल ने मंगलवार दोपहर को कलेक्ट्रेट परिसर में कोरोना वैक्सीन का बहिष्कार करते हुए बिना अनुमति भीड़ एकत्रित की। जिसमे करीब 250-300 लोगों को इकट्ठा किया और इन सभी लोगों ने DRDA व सभागार के बाहर धरना दिया। इस मामले में कोतवाली पुलिस ने भीड़ का नेतृत्व करने वाले लोगों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज किया है।

काफी समझाने के बाद भी गाइडलाइन का किया उल्लंघन
सीआई ने बताया कि अनोप मंडल की ओर से दिए गए धरने में कई वक्ताओं ने भाषण दिया। जिन्हे कोरोना गाइडलाइन की पालना के लिए निर्देशित करने के बावजूद, उन्होंने निर्देशों की पालना नहीं की। सार्वजनिक स्थान पर बिना अनुमति करीब 300 लोगों की भीड़ जुटाई। इन सभी लोगों ने ना तो मास्क का प्रयोग किया और कोरोना गाइडलाइन के अनुरूप सामाजिक दूरी की पालना भी नहीं की। इस भीड़ का नेतृत्व आरासणा निवासी अमृतलाल प्रजापत, सिंदरू निवासी अमरसिंह राजपूत, सिरोही निवासी राजू सैन, धनापुरा निवासी चंदन सिंह, जीवदा निवासी गुलाबसिंह आदि ने किया। ये सभी लोग जुलूस के रूप में कलेक्ट्रेट गेट पर पहुंचे और वहां भड़काउ नारेबाजी की। जिससे लोगों की धार्मिक भावनाएं भी आहत हुई। इस धरना प्रदर्शन के दौरान काफी समझाने के बावजूद नेतृत्व कर्ताओं ने कोरोना गाइडलाइन का खुला उल्लंघन किया। इस पूरे घटनाक्रम की वीडियोग्राफी करवाई गई। पूरे मामले की गंभीरता को देखते हुए कोतवाली थाने में महामारी अधिनियम व IPC की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...