नवाचार:बैग लेस डे : बच्चों को अब हर शनिवार बस्तों के बोझ मिलेगी मुक्ति

सिरोही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बच्चाें काे व्यावसायिक कला सिखाई जाएगी। - Dainik Bhaskar
बच्चाें काे व्यावसायिक कला सिखाई जाएगी।
  • प्रदेश के 660 स्कूलों में उच्च प्राथमिक स्तर तक व्यावसायिक शिक्षा के लिए एक्सपोजर
  • गतिविधि के लिए 1 करोड़ 32 लाख रुपए की राशि जारी, जिले के 18 स्कूलों के लिए मिले 3.60 लाख रुपए, सीखेंगे परम्परागत व्यावसायिक कला

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत विद्यार्थियों को नए शैक्षणिक सत्र 2021-22 में एक दिन यानी प्रत्येक शनिवार को बस्तों के बोझ से मुक्ति मिलेगी। साथ ही विद्यार्थियों को स्थानीय हस्तकला में दक्ष बनाने के साथ अपने हाथ से काम करने का अनुभव भी दिया जाएगा। इसकी शुरुआत अक्टूबर से होगी।

कक्षा 6 से 8 में विद्यार्थियों को बैगलेस डे का आयोजन कर व्यावसायिक शिक्षा का अनुभव दिया जाएगा। प्रदेश के राजकीय उच्च प्राथमिक स्तर के विद्यार्थियों को अनुमोदित नवाचार में 660 विद्यालयों में कक्षा 7 व 8 में अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए स्कूल स्तर पर 5 बैगलेस डे का आयोजन किया जाएगा।

इसके तहत विद्यार्थी विभिन्न प्रकार की समृद्ध करने वाली स्थानीय कला/क्राफ्ट और व्यावसायिक हस्तकलाओं को प्रोत्साहन देने के साथ कौशल आधारित एक आनन्दायी कोर्स करेगा, जिसमें की महत्वपूर्ण व्यावसायिक शिल्प जैसे बढईगिरी, बिजली का काम, धातु का काम, बागवानी, मिट्टी के बर्तनों का काम आदि का जायजा देगा और विद्यार्थियों को अपने हाथ से काम करने का अनुभव प्रदान किया जाएगा। विद्यार्थियों को राज्य में संचालित 12 व्यावसायिक शिक्षा विषयों में रोजगार के अवसरों की उपलब्धता आदि की जानकारी विषय विशेषज्ञों की ओर से प्रदान कराई जाएगी।

स्कूलों में हर शनिवार को स्थानीय कला, क्राफ्ट व व्यावसायिक हस्तकलाओं को प्रोत्साहन के साथ विद्यार्थियों को सिखाएंगे परंपरागत व्यावसायिक कला

बैग लेस डे का यह है उद्देश्य-

  • विद्यार्थियों को श्रम की महत्ता, स्थानीय कलाओं और कारीगरी सहित अन्य विभिन्न व्यवसायों के महत्व से परिचित कराना तथा व्यावसायिक शिक्षा के अनुभव प्रदान करना।
  • व्यावसायिक शिक्षा संचालित विद्यालयों में कक्षा 6 से 8 में अध्ययनरत विद्यार्थियों में व्यावसायिक शिक्षा विषय के चयन का बोध विकसित करना।
  • कौशल विकास एवं कौशल के क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों की जानकारी प्रदान करना।
  • स्वरोजगार की भावना विकसित करना।
  • व्यावसायिक शिक्षा योजना का प्रचार-प्रसार करना।
  • विद्यालय स्तर पर अक्टूबर 2021 के प्रत्येक शनिवार को नो बेग डे का आयोजन करना है, जिसमें कक्षा 7 व 8 के विद्यार्थी भाग ले सकेंगे।

खबरें और भी हैं...