पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर खुलासा:पुलिस की शह से जाते थे शराब के ट्रक, लाॅकडाउन में गुजरात में सख्ती की

सिराेही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गुजरात से सटे शराब ठेकाें से राजस्व घटा ताे आबकारी विभाग की 5 जिलों की टीमों ने 30 मई को की थी बड़ी कार्रवाई

आबकारी विभाग के पांच जिलाें की टीम की 30 मई काे दी गई दबिश अचानक हुई कार्रवाई नहीं थी। गुजरात बाॅर्डर पर सटे सिराेही के ठेकाें से अप्रैल-मई में अचानक राजस्व कम हाे गया। आबकारी आयुक्त तक शिकायत पहुंची कि वडोदरा निवासी बाेतल किंग गिराेह के सरगना लाला उर्फ लालु सिंधी ने अपने साथी माफिया विनाेद उर्फ विजू सिंधी, उदयपुर के मावली निवासी सुनील दर्जी व आबूराेड के शराब काराेबारी डिग्गी उर्फ आनंदपालसिंह की मदद से पुलिस से लाइजनिंग कर हरियाणा से गुजरात तक लाइन चला रखी है। शराब से भरे ऐसे ट्रक मंडार, राेहिड़ा, आबूराेड शहर, रीकाे व सदर थाना क्षेत्र से हाेते हुए पुलिस की कथित शह पर ही बाॅर्डर पार कर गुजरात में जाते थे। कुछ महीनाें से गुजरात पुलिस ने बाॅर्डर पर सख्ती की ताे बड़े ट्रकाें से कटिंग कर छाेटे वाहनाें में चाेरी छिपे भेजने लगे थे। तब आबकारी आयुक्त ने अन्य पांच जिलाें के अफसराें की टीम बना कर 30 मई काे राेहिड़ा थाना क्षेत्र के भुजेला गांव की सरहद में डंप 2 कराेड़ की शराब, 15 वाहन व 11 आराेपी पकड़े। यह शराब की खेप लाला सिंधी, विनाेद सिंधी, सुनिल दर्जी व आबूराेड़ के शराब काराेबारी डिग्गी उर्फ आकी थी,लेकिन उनकी एक और खेप दूसरी जगह डंप की हुई

निलंबित कांस्टेबल देवेंद्र की शिकायत पर एसीबी ने हेड कांस्टेबल तेजाराम पर दर्ज किया मुकदमा

जयपुर देहात एसीबी ने कांस्टेबल देवेंद्र की शिकायत पर पिंडवाड़ा थाने के हेड कांस्टेबल तेजाराम सहित अन्य के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। देवेंद्र का आरोप है कि मुझ पर मदुरई जाकर तीन लाख रुपए लेने का झूठा आरोप लगाते हुए तेजाराम ने एसपी के नाम से डेढ़ रुपए की मांग की थी। पैसा नहीं देने पर मुझे सस्पेंड करवा दिया गया। इधर 21 मार्च काे आबूराेड सेंटपाॅल स्कूल के पीछे सुमित ग्रेनाइट के गाेदाम में ट्रक से डंपिंग की और कटिंग कर छाेटे वाहनाें में शराब की खेप रवाना की। चार कांस्टेबल माैके पर पहुंचे शराब से भरी इनाेवा, क्रेटा व शिफ्ट कार में चार लाेग मिले थे। थाना प्रभारी ओमप्रकाश विश्नाेई ने चाराें काे गिरफ्तार कर वाहन और शराब जब्त की। विनाेद सिंधी, सुनील दर्जी व वड़ाेदरा में सप्लायर देवेंद्र उर्फ बस्सी समेत 11 आराेपियाें काे सीआर नंबर 87/ 2021 में नामजद किया। इस एफआईआर में कांस्टेबल देवेंद्र की माैजूदगी नहीं बताई गई, जबकि माैके पर उसी ने 8 पेज की माैका फर्द रिपाेर्ट तैयार की थी। कांस्टेबल ने एसपी पर कई गंभीर आराेप लगाए तो थाना प्रभारी ने तीन दिन पहले एक वीडियाे जारी कर दावा किया कि कार्रवाई में कांस्टेबल देवेंद्र शामिल नहीं था। इसी बयान से थाना प्रभारी विश्नाेई भी फंस गए। घटना वाले दिन राेजनामचे में कांस्टेबल देवेंद्र की रवानगी नहीं दिखाई और ना ही आईआर में उसे टीम का हिस्सा बताया। 21 मार्च के बाद से न तो कोई गिरफ्तारी हुई न जब्ती। शराब पकड़वाने वाले कांस्टेबल देवेंद्र, मांगीलाल, हीरालाल व सुभाष काे बारी-बारी से संस्पेंड कर दिया।

सिराेही विधायक संयम लोढ़ा बाेले-पुलिस मुख्यालय के अफसराें के इशाराें से बाॅर्डर पार हाेती है शराबक्याेंकि सिराेही में उनकी पसंद के ही एसएचओ लगते हैं... लेकिन सिराेही एसपी पर लगे आराेपाें पर चुप्पी साधी, कहा- जांच में सब साफ हाे जाएगा

सिराेही विधायक संयम लोढ़ा ने शुक्रवार काे पुलिस मुख्यालय में नियुक्त आईपीएस अफसराें पर गंभीर आराेप लगाते हुए सिराेही जिले में अवैध रूप से शराब तस्करी का ठीकरा भी फाेड़ा। उन्हाेंने किसी किसी अधिकारी का नाम ताे नहीं लिया, लेकिन कहा कि उनके बारे में सभी काे पता है कि काैन-काैन अधिकारी किस तरह के काम करते है। सिराेही में शराब माफिया व एसपी हिम्मत अभिलाष टांक के बीच गठजाेड़ के आराेपाें काे टालते हुए विधायक ने कहा कि पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर ने दाे सीनियर आईपीएस काे जांच साैंपी है, जाे दूध का दूध और पानी का पानी कर देंगे। सिराेही पुलिस ने काफी बार शराब तस्कराें काे पकड़ा है, लेकिन आबकारी विभाग की ओर से यह पहली कार्यवाही है, जो नजर में है और सुनने में आई है।

लोढ़ा ने कहा कि मैंने डीजीपी एमएल लाठर से मुलाकात कर बताया था कि गुजरात तक की शराब तस्करी सीमावर्ती थानों के जरिए होती है। और इसकी जाे वजह है, वाे पुलिस मुख्यालय में है। विधायक का कहना था कि गुजरात के सीमावर्ती थाने स्वरूपगंज, रोहिड़ा, आबूरोड़ शहर, सदर, रीकाे,अनादरा, रेवदर, मंडार, पिंडवाडा के सारे अधिकारी पुलिस मुख्यालय की सिफारिश से लगे हुए हैं और मुख्यालय के कुछ अफसराें का इन थाना प्रभारियाें काे संरक्षण मिला हुआ होता हैं। इसलिए ऐसे अधिकारी पुलिस की नाैकरी नहीं, बल्कि मुख्यालय के अफसराें के इशारे पर शराब तस्करी के लिए काम करते हैं।

विधायक लोढ़ा ने सिराेही से लेकर पुलिस मुख्यालय के सिस्टम पर सवाल खड़े किए

  • विधायक ने सवाल उठाते हुए कहा कि मंडार थाने मे कोरोना काल में पिछले एक साल के अंदर करीब 4 थानाधिकारियों का तबादला हो गया, इसके पीछे क्या कारण है। क्याेंकि इसकी जड़े पुलिस मुख्यालय में है।
  • सिरोही जिले के अंदर 25 थानों-चाैकियाें में लगे पुलिस अधिकारी विभाग की नौकरी नहीं करते। वे लाेग अवैध कारोबार और शराब तस्करी कैसे हो, उसके लिए काम करते हैं। डिपार्टमेंट से भी ये बात छुपी हुई नही हैं।
  • तीनों राज्य सरकारे-महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्यप्रदेश की सरकार प्रयासरत दिखती है कि उनकी शराब गुजरात कैसे जाए। सरकार के प्रभारी मंत्री को बोलकर शराब कि और मादक पर्दाथों कि कार्यवाही को लेकर सिरोही के एसपी से डिटेल मंगवाई थी।
  • पहले वाले एसपी से सवाल किया था कि शराब की कार्रवाई में ड्राइवर और खलासी ही क्यों पकड़ा जाता हैं और तस्कर अंधेरे का फायदा उठाकर भाग क्यों जाता है। आबूरोड में एक कुख्यात तस्कर ने अपने रिश्तेदारों और नौकरों के नाम से दुकानें ले रखी हैं और गुजरात तक शराब तस्करी करता है। आबकारी और पुलिस के बिना संरक्षण के एक बोतल भी बाहर जा नहीं जा सकती।

दाेनाें आईजी बॉर्डर व घटना स्थल गए, रिपाेर्ट डीजीपी काे देंगे
सिराेही में शराब माफिया और पुलिस के गठजाेड़ तथा एसपी हिम्मत अभिलाष टांक पर लगे आराेपाें की जांच के लिए डीजीपी एमलएल लाठर के आदेश पर एसओजी के डीआईजी अमनदीपसिंह कपूर व पुलिस मुख्यालय में विजिलेंस विंग के डीअआईजी सत्येंद्रसिंह दाे दिन से सिराेही में डेरा डाले हैं। दोनों डीआईजी शुक्रवार को 21 और 31 मार्च वाली कार्रवाई के घटनास्थल और मावल चेक पोस्ट वाले क्षेत्र में गए।

एसओजी के आईजी ने अपनी टीम के साथ इस प्रकरण से जुड़े साक्ष्याें की जांच की और फैक्ट जुटाए, वििजलेंस के आईजी ने पुलिस लाइन के अन्वेषण भवन में दूसरे दिन भी जांच टीम के साथ व्यस्त रहे। आबूराेड जाकर आबकारी विभाग द्वारा मनाेनीत जांच अधिकारी पीओ करणीसिंह से अब तक की गई जांच का ब्याेरा लिया और शराब प्रकरण से जुड़े अधिकारी-कर्मचारियाें के बयान के बाद केस की फाइल की भी जानकारी ली। दाेनाें सीनियर आईपीएस ने बताया कि वे अपनी जांच रिपाेर्ट डीजीपी एमएल लाठर काे साैंपेंगे।

खबरें और भी हैं...