पदस्थापित किए जाने के मामले:तहसीलदार पद पर पदोन्नति नहीं, कोर्ट ने जवाब मांगा

सिरोही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पिछले सप्ताह राज्य सरकार की ओर से नायब तहसीलदार से वरिष्ठता के आधार पर तहसीलदार पद पर पदस्थापित किए जाने के मामले को सिरोही के एक नायब तहसीलदार ने हाईकोर्ट में चुनौती है। हाईकोर्ट ने इस मामले में राजस्व विभाग जयपुर के जॉइंट सेक्रेटरी और राजस्व मंडल अजमेर को नोटिस जारी कर 2 सप्ताह में जवाब मांगा है।

सरकार को एक सीट खाली रखने के आदेश किए है। हाईकोर्ट में नायब तहसीलदार की ओर से अधिवक्ता श्रेयांश मरडिया ने पैरवी की। राठौड़ लाइन निवासी 58 वर्षीय रमेश सिंह राठौड़ ने हाईकोर्ट को वरिष्ठता से जुड़े दस्तावेज पेश किए। सुनवाई कर रहे न्यायाधीश अरूण भंसाली ने राजस्व विभाग जयपुर के जॉइंट सेक्रेटरी और राजस्व मंडल अजमेर को नोटिस जारी कर 2 सप्ताह में जवाब तलब किया है।

सेवानिवृत्ति के 10 साल बाद व. अध्यापक से वसूली पर रोक

सेवानिवृत्ति के 10 साल बाद एक वरिष्ठ अध्यापक से 174620 रुपए वसूल किए जाने के आदेश पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दीहै। माध्यमिक शिक्षा शासन सचिव जयपुर, माध्यमिक शिक्षा आयुक्त बीकानेर, जिला शिक्षा अधिकारी सिरोही, संयुक्त निदेशक पेंशन विभाग जोधपुर, अतिरिक्त निदेशक पीएफ जोधपुर, अतिरिक्त निदेशक बीमा एवं पीएफ विभाग जोधपुर, उपनिदेशक बीमा एवं पीएफ विभाग सिरोही, कोषाधिकारी सिरोही और शाखा प्रबंधक एसबीआई सिरोही को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है।

राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय वीरवाड़ा से 28 फरवरी 2011 सेवानिवृत्त हुए वरिष्ठ अध्यापक परमानंद ओझा पेंशन को 14 अक्टूबर 2021 को आदेश भिजवा कर 174620 रुपए वसूली के लिए कहा गया था।

खबरें और भी हैं...