7 साल के बच्चे की मौत, डॉक्टर को किया APO:बीमार बच्चे को दिखाने हॉस्पिटल लेकर पहुंची, डॉ. ने दवाई लिख कंपाउंडर के पास भेजा, इंजेक्शन लगाने के बाद हुई मौत

सिरोही7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बच्चे की मौत के बाद इकट्ठा हुए परिजन व समाज के लोग। - Dainik Bhaskar
बच्चे की मौत के बाद इकट्ठा हुए परिजन व समाज के लोग।

सिरोही जिले के रेवदर के सरकारी अस्पताल में सात साल के बच्चे की इंजेक्शन लगाने के बाद मौत होने का गुरुवार को मामला सामने आया है। परिजनों ने आरोप लगाया है कि डॉक्टर के गलत इंजेक्शन लगाने से बच्चे की मौत हुई है। इस मामले में सीएमएचओ डॉ. राजेश कुमार ने डॉ. मुकेश मीणा को एपीओ कर दिया है।

जौनपुर के रहने वाले मोडराम देवासी के 7 वर्षीय बेटे जीतू की मौत हो गई। जीतू की मां गजरी देवी ने बताया कि बेटे के बीमार होने पर वह उसे लेकर ऑटोरिक्शा से रेवदर अस्पताल आई थी। दोपहर करीब 12 बजे अस्पताल से पर्ची कटवाई और वहां मौजूद डॉक्टर मुकेश मीणा को दिखाया। उन्होंने दवाई लिखकर कहा कि हॉस्पिटल के अंदर से दवाइयां लेकर कंपाउंडर के पास जाकर बच्चे को ड्रिप करवा दो। डॉक्टर के कहे अनुसार दवाइयां लेकर कंपाउंडर के पास पहुंची। कंपाउंडर ने उनके बेटे जीतू कुमार के ड्रिप लगाई और ड्रिप लगाने के दौरान एक इंजेक्शन लगाया। इसके बाद कंपाउंडर उन्हें छोड़कर रूम के बाहर चला गया। थोड़ी देर बाद जीतू के मुंह से झाग निकलने लगे, इस पर वह घबरा गई। दौड़कर कंपाउंडर को बुलाने गई, मगर कंपाउंडर वह डॉक्टर बुलाने पर भी नहीं आए। थोड़ी देर बाद कंपाउंडर व डॉ. मुकेश मीणा आए, जब तक बच्चे की मौत हो चुकी थी।

परिजनों ने बताया कि इलाज से पहले बच्चा अस्पताल परिसर में ही खेल रहा था, जब उसका नंबर आया तो उन्होंने डॉक्टर को दिखाया। वहां से जाकर उन्होंने उसे ड्रिप चढ़ाई, इंजेक्शन लगाने के बाद उसकी मृत्यु हुई है। इंजेक्शन लगाने के बाद उसका पूरा शरीर कांपने लगा और मुंह से झाग निकलने लगा। इस पर उन्होंने कंपाउंडर को डॉक्टर को बुलाया लेकिन वहां कोई भी नहीं आया, डॉक्टर के यह कहने पर कि बच्चा मर गया है। इसको घर लेकर जाओ इस पर परिजन भड़क गए तथा बच्चे की मां बुरी तरह बिलख बिलख कर रोने लगी। मां को रोता देख परिजन तथा समाज के अन्य लोग भी आक्रोशित हो गए। समाज के लोगों के पहुंचने के बाद डॉक्टर-कंपाउंडर अस्पताल से चले गए। समाजबंधुओं ने बच्चे की मौत को लेकर विरोध करने लगे और मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाने की जिद करने लगे।

घटना की जानकारी सीएमएचओ डॉ. राजेश कुमार रेवदर अस्पताल पहुंचे, उन्होंने परिजन वह समाज के लोगों की बात सुनी। सीएमएचओ डॉ. राजेश कुमार ने बताया कि बच्चे का इलाज किया गया था। बच्चे की मौत किस कारण से हुई है ,यह मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाने के बाद ही पता चल सकेगा। अभी, डॉ. मुकेश मीणा को एपीओ कर दिया है। शुक्रवार सुबह मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...