पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शहर का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट:4 साल में पूरा होगा सीवरेज का काम, लाइन के बीच आने वाले सेफ्टी टैंक और घरों के बाहर बने पानी के हौद टूटेंगे

सिरोही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 4 मीटर तक टूटने वाली सड़क वापस बनाकर देगी कंपनी, इससे ज्यादा चौड़ी सड़कों की सिर्फ मरम्मत करेंगे

शहर के सबसे बड़े प्रोजेक्ट सीवरेज का काम शुरू हो चुका है और यह काम 4 साल में पूरा होगा। सीवर लाइन के बीच आने वाले टॉयलेट के सेफ्टी और लोगों के घरों के बाहर बनाए पानी के हौद तोड़े जाएंगे। हालांकि, सीवरेज निर्माता कंपनी का प्रयास रहेगा कि सेफ्टी टैंक व टंकियों को कम से कम नुकसान हो। इस प्रोजेक्ट को लेकर शुक्रवार को नगरपरिषद सभागार में सभापति महेंद्र कुमार मेवाड़ा की अध्यक्षता में रूडिप, एलएनटी व पीएचईडी अधिकारियों के साथ परिषद कमेटी अध्यक्षों की समीक्षा बैठक हुई।

बैठक में रूडिप के प्रोजेक्ट मैनेजर पीसी गुप्ता व एक्सईएन हरिसिंह मीणा ने बताया कि सीवरेज के दो एसएलटी बनाए जाएंगे। भंद्रकरनगर, महाकाली नगर और भाटकड़ा कॉलोनी में सीवरेज का काम शुरू हो चुका है। यह काम डेढ़ साल में पूरा कर दिया जाएगा। इसके बाद दूसरे एसएलटी पर काम शुरू किया जाएगा।

बैठक में नगरपरिषद आयुक्त महेंद्र सिंह चौधरी, पीएचईडी के एईएन रामप्रसाद मालप, जेईएन सत्यवीर सुरेला, डिस्कॉम जेईएन मोहम्मद मोहसीन, उपसभापति जितेंद्र सिंघी, पार्षद ईश्वर सिंह डाबी, धनपत सिंह राठौड़, मारूफ हुसैन, पिंकी रावल, सीता देवी, जितेंद्र ऐरन, मनोज पुरोहित, अनिल सगरवंशी, अनिल चौहान, सुधांशु गौड़ व प्रकाश कुमार मौजूद रहे।

दो एसएलटी बनेंगे, पहले पर काम शुरू
पहला एसएलटी अनादरा चौराहे के पास और दूसरा नेहरू नगर में बनेगा। एसएलटी की कनेक्टिविटी को देखकर कम से ज्यादा ऊंचाई की तरफ बढ़ते क्रम में सीवर लाइन बिछाई जाएगी। अनादरा चौराहे के एसएलटी से भंद्रकरनगर, महाकाली नगर, भाटकड़ा रेबारीवास व भाटकड़ा कॉलोनी को जोड़ा जाएगा। यह एसएलटी 1.7 एमएलटी का होगा। बाकी पूरे शहर को नेहरूनगर कॉलोनी के एसएलटी से जोड़ा जाएगा। यह एसएलटी 5 एमएलटी का होगा। इस पर काम में ज्यादा समय लगेगा।

24 इंच की होगी मुख्य सीवर लाइन, गलियों में 8 इंच की लाइन बिछाई जाएगी

सीवरेज की मुख्य लाइन 24 इंच की होगी। गलियों में 8 इंच की लाइन बिछाई जाएगी। सीवर लाइन के साथ-साथ पीने के पानी की पाइप लाइन भी बिछाई जाएगी। सीवर लाइन के एक आईसी चैंबर से 3-4 घरों के सेफ्टी टैंक कनेक्शन जोड़े जाएंगे। पीने के पानी के कनेक्शन के लिए टी छोड़े जाएंगे, जहां मीटर लगाकर घरों के कनेक्शन जोड़ेंगे। शुरुआत में सिर्फ सीवर लाइन के लिए हो रही खुदाई के दौरान बार-बार पानी की पाइप लाइन टूटने से लोगों को हो रही समस्या को देख कंपनी ने सीवर लाइन के साथ अब पानी की पाइप लाइन भी बिछाने का निर्णय लिया है। हालांकि, अभी कनेक्शन पुरानी लाइन से ही मिलेगा।

24 घंटे मिलेगा पानी, मीटर की रीडिंग से आएगा बिल

रूडिप के प्रोजेक्ट मैनेजर पीसी गुप्ता ने बताया कि सीवरेज योजना को शहर में रोजाना 65 लाख लीटर जलापूर्ति के हिसाब से तैयार किया गया है। शहरवासियों को पानी के स्टोर की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि 24 घंटे पानी मिलेगा। नल कनेक्शन पर मीटर लगाया जाएगा और रीडिंग के हिसाब से बिल आएगा। जनप्रतिनिधियों ने बताया कि शहरवासियों को अभी भी पूरा पानी नहीं मिल रहा तो 24 घंटे कैसे मिलेगा। अधिकारियों ने बताया कि पानी का स्टोरेज बढ़ाने के साथ पूरी पाइप लाइन नई बिछाई जाएगी और स्त्रोत बढ़ाएंगे।

4 मीटर तक टूटने वाली सड़क ही नई बनेगी, जनप्रतिनिधियों ने जताई आपत्ति
बैठक के दौरान कंपनी अधिकारियों ने बताया कि सरकार के साथ हुए एमओयू की शर्तों के मुताबिक सीवर लाइन के दौरान तोड़ी जाने वाली सड़कों में सिर्फ 4 मीटर तक की चौड़ाई में ही नई सड़क बनाई जाएगी। इससे ज्यादा सड़क को होने वाली नुकसान की भरपाई के लिए कंपनी जिम्मेदार नहीं है। जनप्रतिनिधियों ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा कि सड़क को बीच में से खोदने के बाद दोनों तरफ की सड़क खराब होगी। ऐसे में पूरी सड़क बनाने पर ही स्थायी समाधान होगा। इस मामले में आगामी बोर्ड बैठक में प्रस्ताव लेकर सरकार को भेजने का निर्णय लिया गया। कंपनी अधिकारियों ने कहा सड़क की मरम्मत व पेचवर्क 10 साल तक करेंगे। जिस कॉलोनी में अभी सड़क नहीं बनी है, वहां कच्चा छोड़ा जाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser