पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शिकंजा कसा:शराब तस्करी में फंसे एसपी भी एसीबी के नामजद आरोपी, कई दिनों से थे रडार पर

सिरोही9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दाे दिन सिराेही रही एसीबी टीम, शिकायत का सत्यापन कर चुकी थी
  • एसीबी ने क्या पड़ताल की और एफआईआर में क्या आराेप हैे, पड़ताल करती रिपाेर्ट सबसे पहले पढ़िए दैनिक भास्कर में

सिराेही में शराब तस्कराें के गठजाेड़ और कथित लेनदेन के आराेप में फंसे एसपी हिम्मत अभिलाष टांक 22 अप्रैल काे ही एसीबी की रडार पर आ गए थे। एसीबी की आर में एसपी भी नामजद आराेपी हैं। 22 व 23 अप्रैल काे जयपुर एसीबी की टीम सिराेही में आई थी, जिसने एसपी के नाम पर हेडकांस्टेबल तेजाराम द्वारा कांस्टेबल देवेंद्र से 1.50 लाख रुपए मांगने की घटना का सत्यापन कर दिया था। हालांकि कांस्टेबल की शिकायत पर एसीबी ने आराेपी हेडकांस्टेबल तेजाराम का फाेन सर्विलांस पर ले रखा था, लेकिन आराेपी हेडकांस्टेबल वाॅटसएप पर ही कांस्टेबल काे फाेन कर रुपए नहीं देने पर एसपी द्वारा निलंबित करने की धमकी देता था। ऐसे में सिराेही कैंप के दाैरान 23 अप्रैल काे एसीबी ने अपना डिजीटल टेप रिकार्डर डिवाइस देकर कांस्टेबल काे हेडकांस्टेबल से मिलने भेजा था। दाेनाें के बीच उस दिन एसपी कार्यालय के निकट स्थित महिला थाने के पास मुलाकात हुई, जिससे कुछ दूरी पर एसीबी टीम भी छिपी हुई थी।

उस समय भी हेडकांस्टेबल ने कांस्टेबल देवेंद्र से कहा था कि तुम और कांस्टेबल मांगीलाल आबूराेड थाने में दर्ज सुंदरम क्रेडिट काॅपरेटिव साेसायटी घाेटला केस में आराेपी महिला संचालक संताेष रावल काे पकड़ने तमिलनाडु के मदुरई गए थे और मुल्जिमा के पुत्र शुभम से 3 लाख रुपए लिए थे। इसमें से डेढ़ लाख रुपए एसपी काे नहीं दिए ताे तुम दाेनाें के खिलाफ एक्शन हाे जाएगा। 23 अप्रैल काे एसीबी ने रुपए की मांग का सत्यापन कर आराेपी हेडकांस्टेबल काे ट्रेप करने की याेजना बनाई, लेकिन ऐन वक्त पर तकनीकी कारणाें से ऐसा नहीं हाे पाया और टीम जयपुर लाैट गई। इसके अलावा भी एसीबी के 14 अप्रैल से लेकर 17 अप्रैल के बीच बातचीत के काफी सारे ऑडियाे क्लीप है, जिसमें कांस्टेबल 17 अप्रैल के ऑडियाे क्लीप में कांस्टेबल विनती कर हेडकांस्टेबल से कह रहा है कि-हेड साब, एसपी आपके ताे पूरे कंट्राेल में है, किसी तरह एक दिन की माेहलत दिलाकर मामले काे संभालाे। हेडकांस्टेबल कह रहा है कि साहब बहुत नाराज है, रकम नहीं लाैटाई ताे एक्शन हाे जाएगा। और 19 अप्रैल की शाम काे एसपी ने कांस्टेबल देवेंद्र व मांगीलाल काे संस्पेंड कर दिया। इसके बाद कांस्टेबल ने एसीबी में शिकायत की।

महिला काे पकड़ने दाे पुरुष कांस्टेबल भेजे, कायदे से महिला पुलिसकर्मी हाेनी चाहिए थी

एसीबी में दर्ज आईआर में आराेप है कि सुंदरम क्रेडिट काॅपरेटिव साेसायटी की ओर से निवेशकाें के कराेड़ाें रुपए हड़पने के बाद पाली, जालाेर व सिराेही में दाे दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज हुए है। ऐसे ही दाे मुकदमे आबूराेड़ सिटी थाने में भी है, जिसमें साेसायटी की आराेपी संचालक संताेष रावल भी अाराेपी है। उसे पकड़ने के लिए थाना प्रभारी ओमप्रकाश विश्नाेई ने कांस्टेबल देवेंद्र रावल व मांगीलाल विश्नाेई काे 10 अप्रैल काे तमिलनाडु के मदुरेई भेजा। पुलिस की यह कार्रवाई भी सवालाें के घेरे में है, क्याेंकि किसी भी महिला काे हिरासत में लेते वक्त महिला पुलिसकर्मी का साथ हाेना जरूरी है। मगर अधिकारियाें ने इस मामले में दाेनाें पुरूष कांस्टेबल काे क्याें भेजा?

कांस्टेबल के बयान लिए, स्वरूपगंज, राेहिड़ा एसएचओ से भी हाेगी पूछताछ

आबकारी विभाग ने 30 मई काे भुजेला सरहद में दाे कराेड़ की हरियाणा निर्मित शराब से भरे 15 वाहनाें के
साथ 11 आराेपियाें काे पकड़ा था। इतने बड़े स्तर पर शराब तस्करी की

स्थानीय राेहिड़ा थाना पुलिस काे भनक तक कैसे नहीं थी? यह सवाल उठ रहा है। चूंकि यह मामला संगठित आर्थिक अपराध से जुड़ा है, इसलिए जांच एसओजी कर रही है। एसओजी राेहिड़ा, स्वरुपगंज के साथ बाकी अन्य थाना प्रभारियाें से भी पूछताछ करेगी और उनसे भी सवाल-जवाब करेगी। उसके दूसरे दिन ही स्वरुपंगज थाना पुलिस ने इतनी ही कीमत के शराब से भरा कंटेनर पकड़ा था, लेकिन कंटेनर की मूवमेंट और शराब बरामदगी पर ही सवाल उठ रहे हैं। इन दाेनाें प्रकरण में आबूराेड़ शहर के बड़े शराब काराेबारी डिग्गी उर्फ आनंदपालसिंह, गुजरात के वड़ाेदरा के शराब माफिया लाला उर्फ लालु सिंधी, उसके सहयाेगी विनाेद सिंधी, उदयपुर के मावली निवासी शराब तस्कर सुनील दर्जी समेत अन्य तस्कराें की भूमिका सामने आई है। इधर, एसीबी जयपुर ग्रामीण मेें दाे दिन तक बयान दर्ज कराने और शुक्रवार रात मुकदमा दर्ज कराने के बाद शिकायतकर्ता निलंबित कांस्टेबल देवेंद्र रावल शनिवार सुबह सिराेही में एसओजी के डीआईजी अमनदीपसिंह कपूर और विजीलेंस डीआईजी सत्येंद्रसिंह के समक्ष पेश हुआ। इसके बाद दाेनाें
अधिकारियाें ने अन्य निलंबित कांस्टेबल मांगीलाल ओर एसपी के नाम पर डेढ़ लाख रुपए मांगने वाले आराेपी हेडकांस्टेबल तेजाराम के बयान दर्ज किए। आबूराेड शहर थाना प्रभारी ओमप्रकाश विश्नाेई, कांस्टेबल हीरालाल व सुभाष के भी बयान लिए। सूत्राें ने बताया कि गत रविवार काे दाेनाें अधिकारी इस मामले में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से संदिग्ध भूमिका वाले अधिकारी-कर्मचारियाें से सवाल-जवाब कर उनके बयान कलमबद्ध करेंगे। साेमवार तक अपनी रिपाेर्ट पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर काे साैंपेंगे।रिपाेर्ट के बाद कार्रवाई करेंगे

सिराेही में शराब तस्करी प्रकरण में पुलिस पर आराेप गंभीर है और मामला भी संगठित आर्थिक अपराध से जुड़ा हुआ है, इसकी गंभीरता से जांच कराई जा रही है। दाेनाें अधिकारियाें की जांच रिपाेर्ट मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
-एमएल लाठर,
पुलिस महानिदेशक

खबरें और भी हैं...