पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग्रह-चाल:शुक्र तारा अस्त होने पर भी विशेष योग; अबूझ मुहूर्त में हो सकेंगे मांगलिक कार्यक्रम

सिरोही3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 14 फरवरी को अस्त होगा शुक्र तारा, साथ ही गुरु का होगा उदय

भले ही 14 जनवरी से धनु मलमास खत्म हो गया हो लेकिन अगले 3 महीने शुभ और मांगलिक कार्य नहीं हो सकेंगे। विवाह और अन्य संस्कारों के लिए कारक माना जाने वाला ग्रह शुक्र तारा 14 फरवरी को अस्त हो जाएगा। इससे पूर्व गुरु (तारा) 17 जनवरी को अस्त हो गया था। यह 14 फरवरी को उदित होगा। फिर मार्च-अप्रैल महीने के पहले पखवाड़े में मीनार्क यानी मलमास रहेगा। ग्रहों की इस स्थिति के कारण 15 अप्रैल तक कोई भी शुभ संस्कार नहीं किया जा सकेगा। बता दें कि हर साल दिसंबर में सूर्य जब धनु राशि में प्रवेश करता है, तब मलमास के चलते शुभ संस्कार करना वर्जित रहता है।

मकर संक्रांति पर सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करता है, तब शुभ संस्कारों की शुरुआत होती है। इस वर्ष कई सालों बाद ऐसा संयोग बना कि जब मलमास खत्म होने के बावजूद विवाह आदि शुभ और मांगलिक कार्य शुरू नहीं हो रहे हैं। सूर्य 14 जनवरी को मकर राशि में प्रवेश कर चुका है, लेकिन शादी विवाह पर रोक लगी हुई है।

हालांकि, इन 3 महीनों में कुछ योग और अबूझ मुहूर्त आएंगे। विशेष योगों में विवाह को छोड़कर सगाई, गृह प्रवेश, गृहारंभ, नींव पूजन एवं व्यापार व अन्य शुभ कार्य ग्रह नक्षत्रों की शुभता के आधार पर अत्यावश्यक होने पर किए जा सकेंगे| जबकि अबूझ मुहूर्त बसंत पंचमी 16 फरवरी और 15 मार्च फुलेरा दोज को विवाह आदि सभी मांगलिक व शुभ कार्य भी हो सकेंगे।

पहला पूर्ण शुद्ध विवाह मुहूर्त 25 अप्रैल को

प्रो. शास्त्री ने बताया कि पहला पूर्ण शुद्ध विवाह मुहूर्त 25 अप्रैल को शुरू होगा। हालांकि, कहीं -कहीं 22 अप्रैल से भी सावे होंगे। इसके बाद मई, जून, जुलाई तक 38 मुहूर्त और चातुर्मास के बाद दिसंबर में मलमास शुरू होने तक 13 शुभ मुहूर्त हैं। इस तरह इस साल कुल 51 मुहूर्त में विवाह संपन्न होगा। ज्योतिषाचार्य अनीश व्यास ने बताया कि विशेष योग में अत्यावश्यक शुभ कार्य और अबूझ मुहूर्त में विवाह आदि सभी मांगलिक और शुभ कार्य हो सकेंगे।

गुरु तारा: 14 फरवरी को उदय होगा गुरु : ज्योतिषशास्त्री पं. दिनेश मिश्रा का कहना है कि हिंदू धर्म ग्रंथों में बृहस्पति अर्थात गुरु ग्रह (तारा) को विवाह का कारक ग्रह माना जाता है। चूंकि 17 जनवरी को गुरु तारा अस्त हो गया जो 14 फरवरी को उदित होगा।
शुक्र तारा: 14 फरवरी से 20 अप्रैल तक : ज्योतिषाचार्य प्रो. विनोद शास्त्री ने बताया कि विवाह के अन्य कारक ग्रहों में शुक्र ग्रह (तारा) भी श्रेष्ठ माना जाता है। 14 फरवरी को शुक्र तारा अस्त हो रहा है, जो 20 अप्रैल को उदित होगा।
मीनार्क यानी मीन मलमास: 14 मार्च से 14 अप्रैल तक : शास्त्री ने बताया कि साल में दो बार मलमास को अशुभ माना जाता है। पहला सूर्य जब धनु राशि में प्रवेश करता है तब यानी 14 दिसंबर से 14 जनवरी तक और दूसरा सूर्य जब गुरु की राशि मीन में जाता है। इस दौरान विवाह संस्कार आदि करना उचित नहीं रहता है।

विशेष योग और अबूझ मुहूर्त
30 जनवरी पद्म योग
31 जनवरी छत्र योग
4 फरवरी स्थिर योग
5 फरवरी मातंग योग
13 फरवरी आनंद योग
14 फरवरी चर योग
16 फरवरी बसंत पंचमी, अबूझ
18 फरवरी पद्म योग
19 फरवरी छत्र योग
20 फरवरी श्रीवत्स योग
22 फरवरी आनंद योग
25 फरवरी गुरु पुष्य योग
27 फरवरी पद्म योग
4 मार्च प्रवर्धन योग
10 मार्च छत्र योग
11 मार्च श्रीवत्स योग
15 मार्च फुलेरा दोज, अबूझ

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें