शिलान्यास:75 बीघा में बनेगा जीएनएन ट्रेनिंग सेंटर वाला प्रदेश का पहला मेडिकल कॉलेज

सिरोही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ब्यावर-पिंडवाड़ा फोरलेन पर वेराविलपुर के पास 325 करोड़ से बनने वाली बिल्डिंग का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वर्चुअल करेंगे शिलान्यास

ब्यावर-पिंडवाड़ा फोरलेन पर वेराविलपुर गांव के पास 75 बीघा जमीन पर मेडिकल कॉलेज बनेगा। सिरोही में बनने वाला मेडिकल कॉलेज प्रदेश का ऐसा पहला मेडिकल कॉलेज होगा, जहां जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर भी बनेगा। जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर के लिए जमीन आवंटित हो चुकी है। 325 करोड़ की लागत से बन रहे मेडिकल कॉलेज का पहला बैच जुलाई 2022 में शुरू हो जाएगा। 330 बेड के मेडिकल कॉलेज का पहला बैच 100 सीटों का होगा। यह मेडिकल कॉलेज जोधपुर संभाग का चौथा मेडिकल कॉलेज है। इसके लिए भारत सरकार एवं राज्य सरकार 60 प्रतिशत एवं 40 प्रतिशत के अनुपात में खर्च उठाएगी।

मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में सिटी स्कैन एवं एमआरआई जैसी विशिष्ट जांच भी सरकार निशुल्क उपलब्ध कराएगी। मेडिकल कॉलेज की बाउंड्री वॉल के साथ एकेडमी की नींव खोदने का कार्य शुरू हो चुका है और गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्चुअल शिलान्यास करेंगे। शिलान्यास में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा भी वर्चुअल जुड़ेंगे। जिला अस्पताल को अपग्रेड करने के साथ-साथ 10 करोड़ की लागत से जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर भी बनाया जा रहा है। पीएमओ डॉ. ए.के. मौर्य ने बताया कि प्रशासनिक स्वीकृति के बाद जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर का कार्य भी शुरू कर दिया जाएगा।

330 बेड वाले मेडिकल कॉलेज में पहला बैच अगली जुलाई तक

दूसरे चरण में मेडिकल कॉलेज स्तर का अस्पताल बनेगा

10 महीने में मेडिकल कॉलेज बनकर तैयार हो जाएगा और जुलाई 2022 से पहला बैच शुरू होगा। दूसरे चरण में मेडिकल कॉलेज का अस्पताल बनाया जाना है। भले सरकार मेडिकल कॉलेज बनाने और अगले शिक्षा सत्र से इसे चालू करने का दावा कर रही हो, लेकिन, अभी तक अस्पताल को लेकर निर्णय नहीं हो पाया है। हालांकि, दावा किया जा रहा है कि मौजूदा जिला अस्पताल का ही जीर्णोद्धार करके इसे मेडिकल कॉलेज से जोड़ा जाएगा। लेकिन इसके लिए न तो आदेश नहीं हुए हैं और न ही बजट मिला है। पीएमओ पीएमओ डॉ. ए.के. मौर्य ने बताया कि अस्पताल के मुख्य भवन में ग्राउंड फ्लोर पर 4 मंजिला भवन बनाया जाएगा। अस्पताल के मुख्य भवन और सामने जनाना विंग परिसर को मिलाकर चिकित्सा के सभी विभागों की अलग-अलग ओपीडी चलेगी।

पहले चरण में 148.46 करोड़ से बनेंगे शैक्षणिक भवन, छात्रावास

मेडिकल कॉलेज के पहले चरण में 148.46 करोड़ रुपए विभिन्न भवन निर्माण कार्य पर खर्च होंगे। इसमें से 84.09 करोड़ के कार्यादेश हो चुके हैं और काम भी शुरू कर दिया गया है। पहले चरण में चार मंजिला शैक्षणिक भवन, 2 छह मंजिला विद्यार्थी छात्रावास (पुरूष-महिला के लिए एक-एक), एक रेजीडेंट छात्रावास, एक तीन मंजिला नर्सिंग छात्रावास, 2 पांच मंजिला . छात्रावास (पुरूष-महिला के लिए एक-एक), एक डायनिंग खंड, 2 छह मंजिला शैक्षणिक आवास, एक छह मंजिला अशैक्षणिक आवास, एक प्राचार्य आवास, एक वर्कशॉप आदि बनाए जाएंगे। कंस्ट्रक्शन साइट पर गुण नियंत्रण प्रयोगशाला वे बैचर कंक्रीट मिक्स प्लांट लग चुका है। अस्थायी बिजली कनेक्शन हो चुका है, ताकि जल्द निर्माण का पूरा किया जा सके।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...