पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Pali
  • Sirohi
  • There Was Theft Of The Station Superintendent's House In The Railway, The Police Reached The Vicious Thief, Then Two Fellow Kidnappers Also Caught, After Leaving The House, All Three Spend The Night On The Streets.

चोर गिरोह के 3 बदमाश पकड़े:रेलवे में स्टेशन सुपरिटेंडेंट के घर की थी चोरी, शातिर चोर तक पहुंची पुलिस तो साथी दो बालअपचारी भी पकड़े, घर छोड़ने के बाद तीनों सड़कों पर बिताते है रात

सिरोही10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
थाना आबुरोड। - Dainik Bhaskar
थाना आबुरोड।

आबूरोड शहर थाना पुलिस ने शातिर वाहन चोर गिरोह के तीन बदमाशों को पकड़ा है। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी को तीन दिन के रिमांड पर लिया है। गिरोह के दो बालअपचारियों को बाल समप्रेषण गृह भेज दिया गया है। फिलहाल गिरफ्तार आरोपी से पूछताछ की जा रही है। पूछताछ में कई अन्य वारदातों के खुलासे की संभावना जताई गई है।

एसआई गनी मोहम्मद ने बताया कि आबूरोड रेलवे कॉलोनी निवासी आर.एन जाटव ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि वह रेलवे में स्टेशन सुपरिटेंडेंट पड़ पर कार्यरत है। गत 23 अगस्त को वह ड्यूटी पर गए थे, रात को जब वह वापस घर लौटे तो मकान के बाहर ताला लगा हुआ था, जबकि मकान के अंदर का सामान बिखरा हुआ पड़ा था। मकान से नकदी सहित सोने-चांदी के आभूषण व चांदी के सिक्के गायब मिले। जांच के दौरान पुलिस ने खानाबदोश उत्तर प्रदेश निवासी सबीम को पकड़ा। सख्ती से पूछताछ करने पर उसने वारदात करना स्वीकार किया। जिसमें दो बालअपचारी भी शामिल होना बताया। पुलिस ने गिरोह के दो साथी बालअपचारियों को भी पकड़ लिया।

आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वह अक्सर आबूरोड व अहमदाबाद आता जाता रहता है। चोरी का माल पालनपुर में किसी मोबाइल चोर के मार्फत बेच देता है। चोरी का सामान बेचने व अन्य काम के लिए विभिन्न स्थानों पर आता जाता रहता है। ऐसे में अधिकतर उसका पालनपुर में आना जाना लगा रहता है। आरएन जाटव के घर से करीब 90 हजार, सोने के गहने व चांदी के 10 सिक्के चोरी किए थे। आरोपी सबीम ने चोरी में मिले रुपए में से 15-15 हजार रुपए बांटे, इन रुपयों से उसने मोबाइल खरीदे थे। जबकि दूसरे सामान आपस में बांट लिए थे।

तीनों ने छोड़ा घर

जांच अधिकारी गनी मोहम्मद ने बताया कि इन तीनों से बातचीत की तो सबीम ने बताया कि उसके माता पिता नही है, गांव की एक महिला ने उसे गोद लिया, लेकिन उसका घर मे मन नही लगता था, पैसे खर्च करने के लिए कोई रास्ता नजर नही आया तो उसने घर छोड़ चोई की वारदातों को अंजाम देने लगा। उसके दूसरे साथी के भी मातापिता नही है, जबकि तीसरा घर बहुत पहले ही छोड़ चुका था। अब वे सड़कों पर ही रहते है, जहां जगह मिली वही सो गए।

खबरें और भी हैं...