पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पर्यटन की धीमी शुरुआत:3 महीने बाद दिखे पर्यटक; 8 दिन में 2496 वाहनों से पहुंचे, पालिका को 3.13 लाख की आय

सिरोही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोनाकाल में थम चुके टूरिस्ट कारोबार को मिलने लगी सांसें, मंदिर खुलने के बाद बढ़ेगी संख्या
  • छीपाबेरी व टोल नाके पर जांच के बाद ही शहर में दिया जा रहा प्रवेश, होटलों में सेनेटाइज पर जोर
  • नक्की पर आज से बोटिंग

लॉकडाउन के दौरान हिल स्टेशन माउंट आबू में थमा पर्यटन अब अनलॉक के बाद गति पकड़ता जा रहा है। करीब 3 माह बाद सरकार की ओर से जारी किए मॉडिफाइड लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद यहां पर्यटकों के आने का क्रम शुरू हुआ, जिससे यहां के पर्यटन स्थलों पर रौनक नजर आने लगी है। बीते 8 दिनों में यहां 2 हजार 496 वाहनों से सैलानी पहुंचे, जिससे नगरपालिका टोल नाके को भी 3 लाख 13 हजार रुपए की आय हुई।

पिछले एक सप्ताह से यहां का मौसम भी सुहाना बना हुआ है, जो सैलानियों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ। रात का तापमान भी 11 डिग्री के आसपास रहने से सर्दी का अहसास हो रहा है और सवेरे भी वादियों में हल्की धुंध छाई रहने से सैलानी घूमने-फिरने का लुत्फ उठा रहे हैं।

शुक्रवार सवेरे भी यहां हल्की बारिश हुई। इधर, नक्की झील पर दो महीने से बंद पड़ी बोटिंग भी शनिवार से पर्यटकों के लिए शुरु होगी। यहां पहुंचने वाले सैलानियों की छीपाबेरी व टोलनाके पर आवश्यक जांच के बाद भी शहर में प्रवेश दिया जा रहा है, ताकि कोरोना संक्रमण फिर से नहीं फैले। होटल में भी सैलानियों को सेनेटाइज कर ही प्रवेश दे रहे हैं और प्रोटोकॉल का पूरा पालन किया जा रहा है। पर्यटकों के आने से अब फिर से हिल स्टेशन के पर्यटन स्थलों पर रौनक नजर आने लगी है।

कोरोना ने बदला सैलानियों के वेलकम का तरीका

कोरोना संक्रमण को लेकर अब हिल स्टेशन आने वाले सैलानियों के वेलकम का तरीका ही बदल गया है। शहर में प्रवेश से पहले दो जगह सैलानियों की पूरी जांच हो रही है। इसमें एक छीपाबेरी और दूसरी जांच टोल नाके पर हो रही है। वहीं सैलानी जब होटल में पहुंच रहे हैं, तो उनके समेत सामानों को भी सेनेटाइज किया जा रहा है। अगर उनके पास मास्क नहीं है, तो होटल की ओर से उन्हें मास्क दिए जा रहे हैं। होटल में आने वाले यात्रियों के साथ होटल स्टाफ भी खासतौर पर एहतियात बरत रहा है। होटल में रिसेप्शन काउंटर हो या फिर रूम सर्विस बॉय हो, हर कर्मचारी ड्यूटी के दौरान फेस मास्क अनिवार्य रूप से पहन रहा है और हाथों में भी ग्लव्ज पहन कर रखते हैं।

दो महीने बाद आज से शुरू होगी नक्की झील पर बोटिंग

हिल स्टेशन माउंट आबू का ह्रदय स्थल नक्की झील यहां आने वाले सैलानियों के आकर्षण का केंद्र है, लेकिन कोरोना संक्रमण को लेकर गत 15 अप्रैल से करीब बीते दो महीने से यहां सैलानियों के लिए बोटिंग बंद है। अब कोरोना संक्रमण कम हुआ है, तो शनिवार से सैलानियों के लिए फिर से बोटिंग शुरू करने की तैयारी की जा रही है।

सैलानियों को आकर्षित करने के लिए बनाई जा रही पेंटिंग

नक्की झील के पास दीवार पर पेंटिंग बनाई जा रही है। चारों और जाली लगाई जा रही है। सवेरे सफाई निरीक्षक नाथा राम के नेतृत्व में टीम ने बोट की सहायता से नक्की में जमा कचरे को बाहर निकाला और रंग-बिरंगे गमले भी लगाए गए। एसडीएम अभिषेक सुराना ने इस कार्य का निरीक्षण किया एवं संबंधित अधिकारियों को निर्देश भी दिए।

माउंट आबू में पर्यटकों के आने सिलसिला चल पड़ा है

^खुशी की बात है कि माउंट आबू में पर्यटकों के आने का सिलसिला शुरू हो गया है। कोविड-19 से बचाव के लिए संबंधित गाइडलाइन को सभी होटल एवं रेस्टोरेंट्स के संचालकों को बताया गया है एवं पाबंद किया है। - अभिषेक सुराणा, एसडीएम, माउंट आबू

खबरें और भी हैं...