पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

खूबसूरत तस्वीर:लॉकडाउन में लोग घरों में कैद हुए तो जवाई बांध में उतर आया फ्लेमिंगो का झुंड

सुमेरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
Advertisement
Advertisement

लैसर फ्लेमिंगो राजहंस की एक प्रजाति है, जो अफ्रीका के कुछ भागों और भारत के गुजरात में रन ऑफ कच्छ एवं उडीसा के चिल्का लेक झील में मुख्य रूप से पाया जाता हैं। राजस्थान में इसकी उपस्थिति सांभर झील में देखी जा सकती है। इसका रंग गुलाबी या गुलाबीपन लिए सफेद होता है।

यह एक बड़े आकार का पक्षी होता है, जो लगभग 90 सेमी ऊंचा होता है। इसका वजन 1.2 से 2.7 किलोग्राम तथा पंखों का फैलाव 90-100 सेमी होता हैं। आमतौर पर ये पक्षी झुंड में ही रहना पंसद करते हैं। वैज्ञानिक मानते हैं कि एक टांग पर खड़े होकर ये पक्षी ऊर्जा की बचत करते हैं।

फ्लेमिंगो एक नजर

90 सेंटीमीटर तक ऊंचाई

2.5 किलोग्राम होता है वजन

100 सेमी तक पंखों का फैलाब

04 घंटे तक एक पैर पर खड़े रहकर नींद ले सकते हैं फ्लेमिंगो

जवाई बांध में 10 से 15 दिन तक रहता है अस्थायी प्रवास

वन्यजीव विशेषज्ञ डाॅ. दिलीप अरोड़ा के अनुसार जवाई बांध में विभिन्न प्रजाति के पक्षी विंटर विजिटर्स के रूप में आते हैं। जिनमें ग्रेटर फ्लेमिंगो को बड़ी संख्या में बांध में प्रवास करते देखा जा सकता है। कुछ संख्या में ग्रेटर फ्लेमिंगो ने जवाई को स्थायी आवास बना लिया है। लैसर फ्लेमिंगो जो कि ग्रेटर फ्लेमिंगो से आकृति में छोटा है एवं गुलाबी रंग की आभा लिए होता है। ये जवाई बांध में गर्मियों में कुछ दिनों के लिए अस्थायी प्रवासी के रूप में दिखाई देते हैं।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement