अच्छी पहल:कोरोना से माता-पिता को खाेने वाले 4 बच्चों ने सीएम के साथ मनाया दीपोत्सव

प्रतापगढ़ (राजस्थान)2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोविड-19 महामारी में अपने माता-पिता को खोने वाले अनाथ हुए प्रदेश सहित जिले के चार बच्चों में से तीन बच्चों के साथ जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजकीय आवास पर दीपाेत्सव मनाया। सामाजिक न्याय व अधिकारिता शासन सचिव डॉ. समित शर्मा ने बताया कि गहलोत ने कोरोना महामारी के कारण अनाथ हुए 231 बच्चों के साथ लंच किया और बच्चों को एक गिफ्ट हैंपर दिया। इसमें मिठाईयां, पटाखे व स्टेशनरी आदि थे। डॉ. शर्मा ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण राज्य सरकार ने अनाथ हुए बच्चों, विधवा महिलाओं एवं उनके बच्चों को आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक संबल प्रदान करने के लिए संवेदनशीलता दर्शाते हुए मुख्यमंत्री कोरोना सहायता योजना की घोषणा की। जिसे 25 जून 2021 से सम्पूर्ण प्रदेश में लागू किया गया। योजना के तहत प्रत्येक अनाथ बालक-बालिकाओं को तात्कालिक सहायता के रूप में राशि एक लाख रुपए की एकमुश्त, अन्य सहायता राशि तथा उसके 18 वर्ष की आयु होने पर 5 लाख रुपए की एकमुश्त सहायता राशि दी है। याेजना के तहत विधवा महिला को एक लाख रुपए की तात्कालिक सहायता के साथ ही 1500 रुपए प्रतिमाह पेंशन भी दी जा रही है। विधवा महिला के बच्चों को 18 वर्ष की आयु तक राशि 1000 रुपए प्रतिमाह एवं 2000 रुपए वार्षिक दिए जा रहे हैं। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक डॉ. टीआर आमेटा ने बताया कि कलेक्टर के निर्देशानुसार मुख्यमंत्री के निवास पर प्रस्तावित दीपावली समारोह में कोरोना महामारी के दौरान अनाथ हुए बच्चों को ले जाया गया। बताया कि आदेशों की पालना में प्रतापगढ़ जिले से 4 बच्चे थे, इसमें एक बालिका पारिवारिक कारणों से नहीं आ पा रही थी। बाकी के तीन बच्चों ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ दीपावली समारोह में भाग लिया।

खबरें और भी हैं...