टीकाकरण से घटा जिले में लंपी संक्रमण का ग्राफ:22 हजार संक्रमित पशुओं में से तीन हजार हुए रिकवर

प्रतापगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रतापगढ़ जिले के धरियावद, अरनोद और छोटीसादड़ी में संक्रमण पूरी तरह से खत्म हो गया है। जिले में मात्र 987 एक्टिव केस बचे है, जबकि अब नए केस नहीं मिल रहे है। वहीं संक्रमण से मरने वाले गोवंश का आंकड़ा भी थम गया है। जबकि रिकवरी रेट भी लगातार बढ़ रही है। जो अब 91 प्रतिशत से अधिक हो गई। जिले में गत दिनों से लगे रहे अंकुश के कारण अब जिले में एक्टिव केस की संख्या हजार के अंदर ही सिमट गई है। इसके साथ ही अब रोजाना के आंकड़ों में संक्रमित नहीं मिल रहे है।

पशुपालन विभाग के नोडल प्रभारी डॉ. जयप्रकाश परतानी ने बताया कि विभाग के आंकड़े के अनुसार जिले में संक्रमण साढ़े 22 हजार 582 तक पहुंचा है। इसके साथ ही रिकवरी का ग्राफ भी बढ़ता जा रहा है। अब तक 20 हजार 560 गोवंश रिकवर हो गए है। जबकि 1069 की मौत हो गई है। जिससे अब मात्र 996 संक्रमित गोवंश बचे है।

जिले के अरनोद, छोटीसादड़ी और धरियावद में एक्टिव केस जीरो हो गई है। धरियावद में कुल 7 हजार 536 गोवंश में लंपी की पुष्टि हुई थी। इसमें से 496 की मौत हो गई थी। इसके बाद सभी 7040 गोवंश रिकवर हो चुके है। इसके साथ ही अरनोद में 2824 गोवंश में संक्रमण पाया गया था। इसमें से 65 की मौत हो गई थी। इसके बाद शेष 2759 गोवंश रिकवर हो गए है। जिससे यहां भी एक्टिव केस जीरो है। जिले के प्रतापगढ़ में 501, पीपलखूंट में 486 एक्टिव केस बचे है।

खबरें और भी हैं...