भास्कर एक्सक्लूसिव:बाघेरी की रपट के आगे 6 कराेड़ की लागत से बन रही पुलिया, मानसून से पहले होगी तैयार, तेज बहाव में भी नहीं फंसेंगे वाहन

नाथद्वारा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
40 कराेड़ की लागत से मंचीद से पूठाेल गांव तक बन रहा है राेड, पुलिया भी इसमें शामिल - Dainik Bhaskar
40 कराेड़ की लागत से मंचीद से पूठाेल गांव तक बन रहा है राेड, पुलिया भी इसमें शामिल

मानसून की बारिश के बाद जिले का सबसे बड़ा पिकनिक स्पाॅट बाघेरी नाका पर आने वाले पर्यटकाें के लिए खुशखबरी है। बाघेरी नाका की रपट के आगे पीडब्ल्यूडी की ओर से 40 कराेड़ की लागत से मंचीद से पूठाेल राेड है। तेज बहाव के समय इस राेड से पानी गुजरता है। इस पर 6 कराेड़ की लागत से बड़ा पुलिया बनाया जा रहा है। इस पर अभी 40 प्रतिशत कार्य पूरा हाे गया है। इस मानसून की बारिश से पहले पुलिया का निर्माण कार्य पूरा हाे जाएगा। पुलिया बनने के बाद पर्यटकाें के लिए काफी आसानी हाे जाएगी। पहले तेज बहाव हाेने पर उदयपुर की ओर से आने वाले पर्यटक एक ओर ही रूक जाते थे। वहीं नाथद्वारा-राजसमंद की ओर से वाले पर्यटक दूसरे छाेर पर रूक जाते थे। पर्यटक बाघेरी की रपट के नीचे नहाते-नहाते एक छाेर से दूसरे छाेर पर चले भी जाते हैं। इस दाैरान रपट पर बहाव तेज हाेने से पर्यटक इधर से उधर फंस जाते हैं। जिनकाे लम्बा चक्कर लगाकर जाना पड़ता था। लेकिन अब ब्रिज बनने के बाद पर्यटक आसानी से इधर से उधर आ-जा सकेंगें

नाथद्वारा पीडब्ल्यूडी के एईएन एनएल काेहली ने बताया कि 40 कराेड़ की लागत से मंचीद से पुठाेल राेड निर्माण कार्य चल रहा है। इस पर बाघेरी नाका के ओवेरफ्लाे के आगे एक पुराना पुलिया बना हुआ था। जाे काफी छाेटा व संकरा था। बाघेरी का ओवरफ्लाे हाेने पर पानी पुलिया के ऊपर बहने लगता था। जिससे बाघेरी पर इधर से उधर जाने में दिक्कत हाेती थी। अब राेड निर्माण के साथ ही बाघेरी पर पुलिया बड़ी व चाैड़ी बनाई जा रही है।

ऐसा हाेगा पुलिया
इस पुलिया में 16 पील्लर व 15 इस्पाम यानि पानी पास हाेने वाला मार्ग बनाया जाएगा। एक इस्पाम की चाैड़ाई 8 मीटर व ऊंचाई ढाई मीटर रखी गई। वहीं पुल की चाैड़ाई 12.5 मीटर हाेगी। ऐसे में पुल ऊंचा हाे जाएगा। पुल के ऊपर पीछे के व्यू में बाघेरी नाका छलकता हुआ नजारा दिखाई देगा। पुल से वाहनाें की आवाजाही भी आसानी से हाे सकेगी।

2006 में हाे चुका हादसा
बाघेरी नाका बनने के बाद पहली बार 2006 में ओवरफ्लाे हुआ था। बाघेरी के पहली बार ओवरफ्लाे हाेने के बाद ही 5 अगस्त 2006 काे एक यात्रियाें से भरी बस पुल से गुजरने के दाैरान बहाव में पलट गई। हालांकि इस हादसे में जनहानि ताे नहीं हुई। लेकिन जिले का बड़ा हादसा था। एेसे में पूरा लवाजमा बाघेरी पर तैनात हाे गया। इसके बाद से बाघेरी के ओवरफ्लाे के दाैरान इस पुल से वाहनों की आवाजाही काे राेक दिया गया।

खबरें और भी हैं...