चेतना शिविर:मेगा विधिक चेतना शिविर और डोर स्टेप काउंसलिंग में 5945 लाेग हुए लाभांवित

राजसमंद (कांकरोली)24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण व जिला प्रशासन के सहयाेग से मेगा विधिक चेतना एवं लोक कल्याणकारी शिविर रविवार सुबह पंचायत समिति परिसर राजसमंद में जिला एवं सेशन न्यायाधीश आलोक सुरोलिया, एडीएम रामचरण शर्मा के अातिथ्य में हुअा।

इसके बाद मंचासीन अतिथियों का स्वागत उपरना ओढ़ा कर किया। शिविर के मुख्य अतिथि डीजे आलोक सुरोलिया ने कहा कि कानून समाज की नींव है और कोई भी व्यक्ति कानून के बिना अपना जीवनयापन नहीं कर सकता हैं। न्यायालयों में होने वाला न्याय नितांत एवं त्याज्य न्याय होता हैं।

उन्होंने विधिक सेवा के तीन स्तंभों-लोक अदालत, विधिक सहायता व विधिक साक्षरता के बारे में जानकारी दी। मंचासीन अतिथियों ने दिव्यांगजन को व्हील चेयर, श्रवण यंत्र, पालनहार योजना समाज कल्याण विभाग, पंचायतीराज विभाग ने पुस्तेनी मकान के पट्टे, आयुर्वेद विभाग, कृषि विभाग अपनी विभिन्न योजनाओं का लाभ दिया।

शिविर में 5 हजार 945 पात्र व्यक्तियों को लाभांवित किया। साथ ही राष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित प्रतियोगिताओं मंे प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली बालिकाओं को प्रशस्ति पत्र अाैर पुरस्कार वितरित कर उनको सम्मानित किया। शिविर में प्राधिकरण ने स्टॉल लगाई जाकर मध्यस्थता कानून, राजस्थान पीड़ित प्रतिकर स्कीम, 2011, लोक अदालत, स्थाई लोक अदालत, राष्ट्रीय लोक अदालत 12 नवंबर काे निशुल्क विधिक सहायत, वरिष्ठ नागरिकांे के अधिकार, महिलाओं व बालकों के विधिक अधिकार व नाल्सा द्वारा विधिक सेवा दिवस 2015 एवं 2016 पर जारी की।

खबरें और भी हैं...