एनएचएम के एक्सईएन और एईएन की टीम ने दौरा किया:आरके अस्पताल में 5 करोड़ 30 लाख रुपए की लागत से बच्चों के लिए नया वार्ड व 20 बेड का आईसीयू वार्ड बनेगा

राजसमंद (कांकरोली)2 महीने पहलेलेखक: हेमंत दाधिच
  • कॉपी लिंक

जिले के सबसे बड़े अारके अस्पताल में 5 कराेड़ 30 लाख की लागत से चिकित्सा सुविधाअाें अाैर अधिक विस्तार किया जाएगा। अारके में सवा चार कराेड़ की लागत से एमसीएच (मैटरनल एंड चाइल्ड हेल्थ) वार्ड 50 बेड से बढ़कर साै बेड का हाे जाएगा। इसके साथ ही 1 कराेड़ 5 लाख की लागत से आईसीयू वार्ड का भी विस्तार किया जाएगा। इसमें 20 बेड का नई आईसीयू वार्ड बनकर तैयार हाेगा। अारके में अब 12 आईसीयू से बढ़कर 32 बेड का आईसीयू वार्ड हाे जाएगा। मंगलवार काे एनएचएम के एक्सईएन हीरालाल सालवी व एईएन रविंद्र जाेशी की टीम ने दाैरा करके माैका देखा गया। निर्माण कार्य के लिए वर्क अाॅर्डर भी जारी कर दिया। एक सप्ताह में कार्य भी शुरू हाे जाएगा। यह निर्माण कार्य पूरा हाेने के बाद प्रसूति महिलाअाें, नवजात बच्चों काे फायदा मिलेगा। इसके साथ ही आईसीयू में 20 नये बड़े बढ़ने से गंभीर मरीजाें काे राहत मिलेगी।

20 बेड का आईसीयू बनने के बाद गंभीर मरीजाें काे बेड के अभाव में रेफर नहीं करना पड़ेगा अारके अस्पताल के पीएमअाे डाॅ. ललित पुराेहित ने बताया कि एनएचएम के माध्यम से अारके अस्पताल के सवा चार कराेड़ की लागत से एमसीएच (मैटरनल एंड चाइल्ड हेल्थ) वार्ड 50 बेड से बढ़कर साै बेड का हाे जाएगा। वर्तमान में अारके अस्पताल में प्रतिदिन अाैसतन 30 से अधिक डिलेवरी हाेती है। एेसे में अभी 50 बेड बहुत कम पड़ते है। एेसे में नव प्रसुताअाें काे भर्ती करने में दिक्कत हाेती है। लेकिन 50 बेड का नया वार्ड बनने के बाद प्रसूताअाें काे फायदा हाेगा। वर्तमान में लेबर रूम एक साथ 6 डिलेवरी करवाई जा सकती है। नया वार्ड बनने पर एक साथ 12 डिलेवरी हाे सकेगी। इस वार्ड में एक अाैर सुविधा भी बढ़ जाएगी। बाहर से अाने वाले नव प्रसूता काे भर्ती करने के लिए नये स्टेप डाउन बेड 20 हाे जाएंगे। जहां बीमार नवजात बच्चों के साथ उनकी माताअाें काे भी भर्ती किया जा सकेगा। यह वार्ड शाैचालय युक्त बनाया जाएगा। पीएमअाे ने बताया कि अारके में वर्तमान में 12 बेड का आईसीयू संचालित हाे रहा है। जिले का सबसे बड़ा अस्पताल हाेने से मरीजाें का भार अधिक हाेता है। एेसे में 1 कराेड़ पांच लाख की लागत से नया आईसीयू वार्ड बनने के बाद 32 बेड का नया आईसीयू वार्ड हाे जाएगा। डाॅ. कृपाशंकर झीरवाल ने बताया कि अारके में मरीजाें की संख्या अधिक हाेने पर अधिकांश समय पर आईसीयू के 12 ही बेड भरे हुए रहते है। एेसे में 20 बेड का आईसीयू बनने के बाद अधिक मरीजाें काे भर्ती किया जा सकेगा। अब गंभीर मरीजाें काे बेड के अभाव में रेफर नहीं किया जाएगा।

1 सप्ताह में कार्य शुरू कर दिया जाएगा : पुराेहित ^एनएचएम के माध्यम से 5 कराेड़ 30 लाख की लागत से नए निर्माण कार्य के लिए टीम ने सर्वे किया। एक सप्ताह में कार्य शुरू कर दिया जाएगा। अगले नये साल में अारके में दाे वार्डाे की साैगात मिलेगी। -डाॅ. ललित पुराेहित, पीएमअाे अारके अस्पताल।

खबरें और भी हैं...