गर्भपात करवाने में किया सहयोग:प्राधिकरण की काउंसलिंग के बाद दुष्कर्म पीड़िता का गर्भपात

राजसमंद14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में पोक्सो अधिनियम के तहत पीड़ित गर्भवती बालिका को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सहायता उपलब्ध करवाकर गर्भपात करवाने में सहयोग किया। प्राधिकरण सचिव मनीष वैष्णव ने बताया कि पुलिस थाने में यौन अपराध से बालकों के संरक्षण अधिनियम के तहत दर्ज प्रकरण में अभियुक्त ने नाबालिग बालिका के साथ बलात्कार करने पर बालिका गर्भवती हुई और परिजनों को पता चलने तक गर्भकाल 13 सप्ताह से अधिक का हो चुका था।

बाल अधिकारिता विभाग राजसमंद से इस संबंध में पत्र प्राप्त होने एवं सहायता उपलब्ध कराने के लिए निवेदन करने पर प्राधिकरण ने इस मामले को अत्यंत गंभीरता से लेते हुए पूर्ण संवेदनशीलता के साथ प्रार्थना-पत्र प्राप्त होने के दिन ही अपराध से पीड़ित नाबालिग बालिका एवं परिजनों से सम्पर्क किया। प्राधिकरण ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तुरंत बालिका और बालिका की माता की काउंसलिंग करवाई।

बालिका को और उसकी माता को बालिका के भविष्य, स्वास्थ्य सामाजिक और मानसिक स्थिति के संबंध में परामर्श देते हुए नाबालिग पीड़िता के मां बनने पर बालिका एवं शिशु के शारीरिक व मानसिक समस्याएं उत्पन्न हो सकने के बारे में जानकारी देते हुए प्राधिकरण सचिव द्वारा काउंसलिंग की।

इस पर पर बालिका और उसके परिजनों ने नियमानुसार गर्भपात कराने हेतु अपनी सहमति दी। कार्रवाई एक ही दिन में पूरी करते हुए 13 सप्ताह से अधिक का गर्भ होने के कारण गर्भ समापन के लिए मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट प्राप्त होने पर पीड़ित बालिका का गर्भपात करने की अनुमति दी। बालिका का राजसमंद राजकीय चिकित्सालय में नियमानुसार गर्भ समापन किया।

खबरें और भी हैं...