दीवार के बदले अब मंदिर में 5 कार्य कराएगा प्रशासन:JCB से तोड़ी थी दीवार, माहौल गरमाया तो बैकफुट पर आए

राजसमंद2 महीने पहले
श्रीपंचमुखी बालाजी मंदिर सिन्देसर खुर्द की दीवार तोड़ी।

राजसमंद के रेलमगरा में शुक्रवार शाम पंचमुखी हनुमान मंदिर की दीवार ढहाने के बाद शनिवार को प्रशासन बैक फुट पर दिखा। रेलमगरा उपखण्ड अधिकारी मनसुखराम डामोर, तहसीलदार अभिनव शर्मा, पटवारी हीरालाल सालवी, नाथद्वारा डिप्टी छगन पुरोहित सहित 20 पुलिसकर्मियों का जाप्ता शुक्रवार शाम 7 बजे पंचमुखी हनुमान मंदिर पहुंचा और करीब ढाई घंटे कार्रवाई करते हुए मंदिर परिसर की बाउंड्री वाल को जेसीबी से तोड़ दिया। प्रशासन की दलील थी कि कुछ तत्वों ने मंदिर की दीवार की आड़ में कमर्शियल निर्माण कर लिया था।

हिंदूवादी संगठन बोले- मंदिर ही निशाने पर क्यों
शुक्रवार रात प्रशासन की कार्रवाई का हिंदूवादी संघठनों ने विरोध किया। कहा कि प्रदेश में हिंदू मंदिर ही निशाने पर क्यों हैं। इस दौरान सिंदेसर इलाके के ग्रामीण भी मौके पर जुट गए और मंदिर की दीवार तोड़ने का विरोध करने लगे। इस दौरान नारेबाजी और विरोध कर रहे भाजपा युवा मोर्चा मंडल के अध्यक्ष नूतन शर्मा और अन्य कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

गिरफ्तारी के विरोध में युवा मोर्चा के कार्यकर्ता थाने पर जुट गए और हंगामा करने लगे। बता दें कि करीब 3 साल पहले ये मंदिर रेलमगरा थाना इलाके में SK माइंस के गेट के पास बना था। मंदिर के चारों पर बाउंड्री थी, जिसे तोड़ दिया गया है।

अधिकारियों ने कहा कि कुछ लोग इलाके में कमर्शियल एक्टिविटी करना चाहते हैं। मंदिर परिसर को नहीं तोड़ा गया है।
अधिकारियों ने कहा कि कुछ लोग इलाके में कमर्शियल एक्टिविटी करना चाहते हैं। मंदिर परिसर को नहीं तोड़ा गया है।

तहसीलदार बोले- कमर्शियल एक्टिविटी करने की मंशा
कार्रवाई में शामिल रेलमगरा तहसीलदार अभिनव शर्मा ने बताया कि इसी साल मार्च में भी सिंदेसर घाटी स्थित हनुमान मंदिर के पास चारागाह की जमीन पर दीवार बनाकर व्यावसायिक गतिविधि करने का प्रयास किया गया था। इसके बाद 8 दिन पहले यहां नींव खोदने की सूचना प्रशासन को मिली। गुरुवार रात 11 बजे मंदिर परिसर की दीवार के पास अवैध निर्माण करने की सूचना मिली तो प्रशासन ने अतिक्रमण हटाना तय किया।

शुक्रवार शाम को पूरे अमले के साथ मौके पर पहुंच कर सिर्फ उस निर्माण को तोड़ा जो बिना अनुमति किया गया था। धार्मिक स्थल को यथास्थिति रखा गया। कमर्शियल उद्देश्य से बनाए गए ढांचे को ध्वस्त कर दिया। पहले भी इसी जगह छोटी-मोटी कार्रवाई कर अतिक्रमण हटाया था।

मंदिर के चारों तरफ दीवार थी जिसे प्रशासन ने तोड़ दिया। हिंदूवादी संगठन इसका विरोध कर रहे हैं। अब प्रशासन बैकफुट पर आया है और दीवार के बदले 5 निर्माण कराने की बात कर रहा है।
मंदिर के चारों तरफ दीवार थी जिसे प्रशासन ने तोड़ दिया। हिंदूवादी संगठन इसका विरोध कर रहे हैं। अब प्रशासन बैकफुट पर आया है और दीवार के बदले 5 निर्माण कराने की बात कर रहा है।

तहसीलदार ने कहा कि एसके माइंस के गेट के पास यह मंदिर स्थित है। गेट से भारी व्हीकल गुजरते हैं और आवाजाही रहती है। इसीलिए वहां कुछ लोग मंदिर की आड़ में कब्जा कर कमर्शियल एक्टिविटी करना चाहते हैं। लंपी से मरती गायें मर रही हैं। गायों के लिए सुप्रीम कोर्ट ने चारागाहों को बचाने की गाइडलाइन जारी कर रखी है। प्रशासन का उद्देश्य चारागाह की जमीन को बचाना है, मंदिर या धार्मिक भावना को चोट पहुंचाना उद्देश्य नहीं है।

शुक्रवार शाम की कार्रवाई के बाद स्थानीय ग्रामीण आक्रोशित हो गए। हिंदूवादी संगठनों ने भी भारी विरोध किया। इसके बाद प्रशासन ने दीवार दोबारा बनवाने का वादा किया है।
शुक्रवार शाम की कार्रवाई के बाद स्थानीय ग्रामीण आक्रोशित हो गए। हिंदूवादी संगठनों ने भी भारी विरोध किया। इसके बाद प्रशासन ने दीवार दोबारा बनवाने का वादा किया है।

मार्च में खोद दी थी नींव, उसे हटाया
कार्रवाई में शामिल उपखंड अधिकारी मनसुख राम डामोर ने भी यही बात दोहराई। कहा कि मार्च में भी यहां नींव खोद दी गई थी। उस काम को रोका। चारागाह की जमीन पर किसी भी तरह के निर्माण की अनुमति नहीं है। ऐसे में सिंदेसर घाटी में मंदिर की वाल के बहाने किए जा रहे अतिक्रमण को हटाया गया है।

बजरंग दल ने कहा- अब 5 फीट ऊंची पूरी दीवार बनाएंगे
शुक्रवार शाम प्रशासन की कार्रवाई के बाद शनिवार को पूरे दिन इसी मुद्दे पर हंगामा होता रहा। प्रशासन को बैकफुट पर आना पड़ा। बजरंग दल के संयोजक राजेश सांवरिया ने कहा कि मंदिर की दीवार तोड़ने की बात गांव वालों को पता लगी तो भीड़ जुट गई थी। विरोध और नारेबाजी की तो कुछ ग्रामीणों को पुलिस थाने ले गई। इसके बाद लोग भड़क गए। आज प्रशासन के साथ पुलिस अधिकारियों, एसके माइंस के मैनेजर अंशुल और गांव वालों के साथ मंदिर में मीटिंग हुई।

शनिवार को ग्रामीणों व हिंदूवादी संगठनों की मीटिंग मंदिर परिसर में रखी गई जिसमें नाथद्वारा डिप्टी छगन पुरोहित ने लोगों से वादा किया प्रशासन की ओर से मंदिर में नए निर्माण किए जाएंगे।
शनिवार को ग्रामीणों व हिंदूवादी संगठनों की मीटिंग मंदिर परिसर में रखी गई जिसमें नाथद्वारा डिप्टी छगन पुरोहित ने लोगों से वादा किया प्रशासन की ओर से मंदिर में नए निर्माण किए जाएंगे।

तय हुआ कि जिन 4 पॉइंट पर दीवार तोड़ी गई है, उसे जिला प्रशासन व माइंस प्रशासन दोबारा बनवाएगा। मंदिर के चारों तरफ 5 फीट ऊंची दीवार बनेगी। मंदिर में गार्डन बनेगा। इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लगाने का काम माइंस प्रशासन करेगा। दीवार के साथ मंदिर का फ्रंट गेट बनेगा। दो पंडित पूजा-सेवा के लिए रखे जाएंगे जिन्हें मासिक वेतन माइंस प्रशासन देगा। यह सब प्रशासन ने लिखित में दिया है। एक से डेढ़ महीने में काम पूरा होगा। शनिवार से ही काम शुरू करने का वादा किया है। वादा तोड़ा तो रविवार से फिर आंदोलन करेंगे।

भाजपा युवा मोर्चा मंडल अध्यक्ष को गिरफ्तार कर छोड़ा
भाजपा युवा मोर्चा मंडल अध्यक्ष ने कहा कि पंचमुखी मंदिर दरबार की दीवार तोड़ना दुखद घटना है। लगातार मंदिरों को निशाना बनाया जा रहा है। 3 साल पहले मंदिर बना था। बजट की कमी के कारण 25 फीट का एक हिस्सा बन नहीं पा रहा था। इसी का निर्माण चल रहा था। शुक्रवार शाम 20 पुलिसकर्मियों के जाप्ते के साथ प्रशासन की टीम पहुंच गई। शाम को हम मंदिर में पूजा अर्चना कर रहे थे। हमसे कहा कि मंदिर में अवैध निर्माण हो रहा है।

युवा मोर्चा के मंडल अध्यक्ष नूतन ने कहा कि आज दीवार तोड़ी है, कल मंदिर तोड़ेगे। हम चुप नहीं बैठेंगे। विरोध किया तो हिरासत में ले लिया। अब प्रशासन अपनी गलती मान रहा है।
युवा मोर्चा के मंडल अध्यक्ष नूतन ने कहा कि आज दीवार तोड़ी है, कल मंदिर तोड़ेगे। हम चुप नहीं बैठेंगे। विरोध किया तो हिरासत में ले लिया। अब प्रशासन अपनी गलती मान रहा है।

उनसे पूछा कि कार्रवाई का कारण बता दीजिए। निवेदन ही कर रहा था कि जीप में बैठाकर थाने ले गए। पीछे से मंदिर की दीवार तोड़ दी। मंदिर की सीढ़ियां भी तोड़ दी। ढाई घंटे तक कार्रवाई की। बाउंड्री वाल को ध्वस्त कर दिया। आज दीवार तोड़ी है, कल मंदिर तोड़ देंगे। शनिवार को प्रशासन ने अपनी गलती स्वीकार की है। अब एक महीने में निर्माण पूरा करने का आश्वासन दिया है।

डिप्टी बोले- प्लांटेशन करेंगे
नाथद्वारा डिप्टी छगन पुरोहित ने शनिवार को मंदिर परिसर में हिंदूवादी संगठनों और ग्रामीणों की मीटिंग बुलाई। लोगों से समझाइश की। उन्होंने कहा कि अब मंदिर में लॉन बनेगा। पूरी बाउंड्री गेट के साथ बनेगी। मंदिर में प्लांटेशन करेंगे। मंदिर की केयर और मेंटेनेंस का काम ग्राम पंचायत करेगी। मंदिर ट्रस्ट के सुपुर्द रहेगा। संरपंच व्यवस्थाओं के लिए अधिकृत रहेगा। सभी गांव वालों का सपोर्ट रहेगा, गांव वालों का मालिकाना हक नहीं रहेगा, गांव वाले केयर टेकर होंगे।

पंचमुखी बालाजी मंदिर परिसर की दीवार शुक्रवार रात प्रशासन ने तोड़ दी। अब दीवार तोड़ने के बदले प्रशासन यहां 5 तरह के निर्माण कार्य कराएगा।
पंचमुखी बालाजी मंदिर परिसर की दीवार शुक्रवार रात प्रशासन ने तोड़ दी। अब दीवार तोड़ने के बदले प्रशासन यहां 5 तरह के निर्माण कार्य कराएगा।