• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Rajsamand
  • Private Royalty 90 Lakhs Recovered From Truck Drivers In One And A Half Year, Asked If They Asked Donated 25 Lakhs To The Gaushala, The Rest Spent In The Office

90 लाख रुपए वसूले:प्राइवेट राॅयल्टी- डेढ़ साल में ट्रक चालकाें से वसूले 90 लाख, पूछा ताे बाेले- 25 लाख गाेशाला में दान कर दिए, बाकी ऑफिस में खर्च

राजसमंद6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले की मार्बल खदानों से निकलने वाले माबर्ल पर सरकार राॅयल्टी वसूलती है। इन्हीं खदानाें से निकलने वाले वेस्ट पत्थर पर कुछ लाेग डेढ़ साल से ट्रक-ट्रेलर चालकाें से 200-200 रुपए वसूल रहे हैं। सुविधा शुल्क के नाम से यह वसूली की जा रही है। बिना रसीद के गाड़ी निकलने पर एसाेसिएशन के सदस्य एकत्रित हाेकर 21 हजार रुपए का जुर्माना भी वसुलते हैं। पिछले एक साल में 90 लाख रुपए वसूले गए।

पूछने पर संस्था के पदाधिकारी ने बताया कि इसमें से 25 लाख रुपए गाेशाला में दान किए और बाकी 65 लाख रुपए ऑफिस खर्चा हाे गया।पहले माइंस मालिक मार्बल वेस्ट डंपिंग यार्ड में डंप करता था। यह मार्बल वेस्ट पत्थर विगत डेढ़ साल से पाली, नागाैर और जाेधपुर सहित मारवाड़ क्षेत्र में खारिया-घोटन के आसपास लगे पाउडर प्लांटों में पीसकर वाइट सीमेंट, कैमिकल, कलर बनाने के काम आ रहा है।

जिस पर ट्रक-ट्रेलर वाहन मालिक इस पत्थर काे ले जाने लगे ताे राजसमंद के कुछ लाेगाें ने मिलकर द क्रेजी खंडा ट्रक-ट्रेलर ऐसासिएशन के नाम से संस्था बना दी और लक्ष्मण गुर्जर काे अध्यक्ष बनाया। नाम नहीं बताने की शर्त पर ट्रक-ट्रेलर चालकों ने बताया कि एसोसिएशन प्रत्येक गाड़ी के सुविधा शुल्क के नाम से 200-200 रुपए की वसूली करता है और अगर ट्रक-ट्रेलर चालक बिना पर्ची के गाड़ी भर लेता है ताे एसाेसिएशन के सदस्य झगड़ा करने लगते हैं और 21 हजार रुपए तक का जुर्माना वसूल करते हैं।

जुर्माना नहीं देने पर मारपीट तक करने लगे जाते हैं। इसी के साथ हिसाब पूछाे ताे गाड़ी नहीं भरने देते हैं। एसाेसिएशन ने केलवा थाना क्षेत्र स्थित केलवा चैपाटी के पास द क्रेजी खंडा ट्रक-ट्रेलर एसोसिएशन ऑफिस बनाकर पर्ची काटते हैं। इस ऑफिस से प्रतिदिन 80 से 100 गाड़ी संचालकों से हर रोज 200-200 रुपए लेते हैं।

प्रतिदिन 80 गाड़ियों की रसीद कटती है, महीने के 5 लाख रुपए
एसाेसिएशन प्रतिदिन औसत 80 गाड़ियाें की पर्ची बनाती है ताे एक दिन में करीब 16 हजार रुपए की वसूली हाेती है। एक दिन में 16 हजार रुपए की वसूली पर महीने के अंत तक 30 दिनाें में 4 लाख 80 हजार रुपए की वसूली हाेती है।

महीने में एक गाड़ी भी बिना जुर्माने के पकड़ते हैं ताे 21 हजार रुपए वसूले जाते हैं। 5 लाख रुपए हर माह वसूली हाेने पर देखें ताे 12 महीने के 60 लाख रुपए और डेढ़ वर्ष का हिसाब देखे ताे करीब 90 लाख रुपए बनता है। इसमें 25 लाख रुपए गाैशाला काे दिए जाते है ताे शेष 65 लाख रुपए स्टाॅफ पर खर्च हाे जाते हैं।

पुरानी रसीद जमा करने के बाद दूसरी जारी करते हैं
द क्रेजी खंडा ट्रक-ट्रेलर एसोसिएशन ने वसूली का तरीका भी कुछ एेसा निकाला, जिससे ट्रक-ट्रेलर मालिक से कर रहे वसूली का सबूत किसी काे नहीं मिले। ट्रेलर लगाने से पहले पुरानी रसीद जमा होती है फिर ट्रक-ट्रेलर खदानों से वेस्ट भरकर आने के बाद उस रसीद पर एसोसिएशन की सील लगाई जाती है।

^सरकार के अलावा काेई संस्था ट्रक चालकाें से शुल्क नहीं ले सकती है। केलवा क्षेत्र में किसी प्रकार की वसूली की जा रही है ताे कल टीम का गठन कर जांच करवाएंगे। नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। -महेश शर्मा, एमई द्वितीय, खान विभाग, राजसमंद

अवैध वसूली के साथ फर्जी रसीदें भी कट रही
नाम नही बताने की शर्त पर युवक ने बताया कि एसोसिएशन 5-6 लोगों जाे मुख्य हैं वो अपने खर्चें के लिए अवैध तरीके से प्रतिलिपी बुक भी रखते हैं। जो ट्रक-ट्रेलर चालकों से काट कर फर्जी रसीद देते हैं और वह राशि अपनी जेब में रखते हैं। ट्रक-ट्रेलर चालकों ने बताया कि अवैध वसूली कर रुपए लेते हैं और हर माह लाखों रुपए की वसूली की जा रही है।

लेकिन अभी तक एक बार भी हिसाब नहीं बताया और हम कुछ गाड़ी मालिक हिसाब मांगते हैं ताे एसाेसिएशन उसकी गाड़ी नहीं लगने देती। सरकार के अलावा काेई संस्था ट्रक चालकाें से शुल्क नहीं ले सकती है। केलवा क्षेत्र में किसी प्रकार की वसूली की जा रही है ताे कल टीम का गठन कर जांच करवाएंगे। नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...