कला उत्सव का आयोजन:छात्रों को 5 मिनट में दिखानी होगी प्रतिभा, जीतने पर कला उत्सव में मिलेगा पुरस्कार

राजसमंद (कांकरोली)2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अगर 9वीं से 12वीं कक्षा में पढ़ाई के साथ-साथ किसी विद्यार्थी की नाच गाने में रुचि है तो तैयार हो जाएं। विद्यार्थियों की कला को निखारने के लिए शिक्षा विभाग ने कला उत्सव का आयोजन कर बेहतरीन मंच उपलब्ध कराने की तैयारी की है। 9 से 12वीं तक के सभी खिलाड़ियों को अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए जिला स्तर पर आयोजित कार्यक्रम में कम से कम 5 मिनट का समय मिलेगा।

यदि बेहतर करने में सफल हुए तो न सिर्फ विजेता बनेंगे बल्कि एक विधा के दो विजेताओं को कला उत्सव इनाम भी मिलेगा। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद के निर्देश पर कला उत्सव का आयोजन होगा। जिला स्तर पर 7 अक्टूबर को कार्यक्रम का आयोजन होगा। प्रतियोगिता में कक्षा नवी से 12वीं तक के विद्यार्थी भाग ले सकेंगे। जिला स्तर पर विजयी छात्रों को राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में भागीदारी का अवसर मिलेगा। वहीं राज्य स्तर पर विजयी छात्र राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित कला उत्सव में भाग लेंगे। विभाग के दिशा-निर्देश के तहत प्रतियोगिता में एक छात्र व एक छात्रा को लेना आवश्यक है।

जिसमें विशेष रूप से विकलांग विद्यार्थी को प्राथमिकता देना है। इसके तहत संगीत, नाटक, नृत्य, दृश्य कलाएं व ललित कलाएं होंगी। यह प्रतियोगिता 10 कलाओं की श्रेणी में होंगी, जिसमें 1 छात्र छात्रा शामिल होंगी। इसमें शास्त्रीय संगीत, पारंपरिक लोक संगीत, अवनद्ध वाद्ध, स्वर वाद्ध, शास्त्रीय संगीत, पारंपरिक लोक नृत्य, दृश्य कला द्विआयामी और त्रिआयामी, स्थानीय खिलौने व खेल तथा नाटक (एकल अभिनय) को शामिल किया गया है।

प्रतिभागियों का मूल्यांकन 100 अंक का होगा। इसके अलावा प्रस्तुति की अवधि 4 से 6 मिनट की तय की गई है। 20 प्रतिभागियों का पहले पुरस्कार के रुप में प्रत्येक को 551, 20 को दूसरे पुरस्कार के रुप में 351 और 20 को ही तीसरे पुरस्कार के रुप में 251-251 रुपए मिलेंगे।

खबरें और भी हैं...