अब तो बरसो मेघ:उघड़ने लगा झील का पैंदा,मानसून का इंतजार, पिछले साल 28 जून को आया था

राजमंद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इस बार भीषण गर्मी के चलते जिले में 35 में से 31 तालाब पूरी तरह सूख चुके हैं। रिकॉर्ड तोड़ गर्मी का असर जिले के बड़े तालाबों पर भी पड़ा। राजसमंद झील, नंदसमंद, चिकलवास और बाघेरीनाका के अलावा एक भी तालाब में पानी नहीं बचा है। इन चारों तालाबों में भी वाष्पीकरण से पानी ज्यादा उड़ रहा है। पिछले साल जून आखिरी सप्ताह मानसून 28 जून को आया था। वहीं 30 फीट की भराव क्षमता वाली राजसमंद झील में मात्र माइनस 1.1 फीट पानी बचा है। पिछले सालों से मानसून की अनिश्चितता

इस बार प्री मानसून की बारिश भी एक दिन हाेने के बाद रूक गई। माैसम वैज्ञानिक इस बार मानसून की बारिश भी पांच दिन देरी बता रहे हैं। उदयपुर के माैसम वैज्ञानिक जगदीश चाैधरी ने बताया कि अधिकांश तौर पर मानसून 20 जून तक अाता है। लेकिन कुछ सालाें से मानसून की अनिश्चितता से यह एक सप्ताह से 10 दिन देरी से अाता है। इस बार पूर्व में मानसून 25 जून काे अाने की संभावना थी। लेकिन पश्चिमी विक्षाेभ की वजह से मानसून चार से पांच दिन अागे बढ़ गया। इस बार मानसून 29 से 30 जून तक अाने की संभावना है।

खबरें और भी हैं...