सीबीईओ ने ग्रामीणाें से समझाइश करके मामले काे शांत किया:10वीं बाेर्ड का रिजल्ट खराब आया तो ग्रामीणों ने स्कूल पर की तालाबंदी

राजसमंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पीपरड़ा गांव में दसवीं बाेर्ड के परीक्षा परिणाम 19.14 प्रतिशत रहने से अाक्राेशित ग्रामीणाें ने राउमावि पर स्कूल खुलने के पहले ही दिन शुक्रवार सुबह एकत्र हाेकर मेन गेट पर तालाबंदी कर दी। इस दाैरान ग्रामीणाें ने पूरे स्कूल के स्टाफ काे बदलने की मांग करते हुए नारेबाजी करने लगे। ग्रामीणाें ने करीब एक घंटे तक प्रदर्शन किया। जानकारी के अनुसार बाेर्ड द्वारा जारी 10वीं परीक्षा के परिणाम में 47 में से मात्र 9 छात्र ही उत्तीर्ण हाे पाए।

स्कूल में लंबे समय से गणित विषय का अध्यापक नहीं हाेने 19 विद्यार्थी पूरक तथा शेष सभी बच्चे गणित विषय में फेल हाे गए। सूचना मिलने पर राजसमंद सीबीईअाे ने माैके पर पहुंचकर ग्रामीणाें से समझाइश कर ताला बंदी खुलवाई। ग्रामीणाें ने बताया कि इस साल दसवीं कक्षा में 47 छात्राें ने परीक्षा दी थी। इसमें से मात्र 9 छात्र ही पास हुए। जबकि 19 छात्र पूरक अाए। इससे ग्रामीण अाैर बच्चाें के अभिभावक अाक्राेशित हाे गए। शुक्रवार काे स्कूल खुलने का पहला दिन था। इस दाैरान ग्रामीणाें ने स्कूल के मेन गेट पर एकत्र हाेकर ताला लगा दिया। इसके बाद सूचना मिलने पर राजसमंद सीबीईअाे नराेत्तम दाधीच माैके पर पहुंचे। जहां ग्रामीणाें से समझाइश कर ताले खुलवाए गए।

इसके बाद सीबीईअाे दाधीच ने ग्रामीणाें से वार्ता की। ग्रामीणाें ने सीबीईअाे काे बताया कि लंबे समय से स्कूल में गणित विषय के अध्यापक का पद रिक्त पड़ा हुअा है। वहीं, स्कूल में दाे अध्यापक है। इसके अलावा शेष सभी अध्यापिकाएं है। जाे कक्षाअाें में लगातार माेबाइल पर व्यस्त रहती है। बच्चें भी स्कूल में माेबाइल लेकर अाते है। जिससे स्कूल में पढ़ाई कम अाैर माेबाइल ज्यादा चलाते है।

खबरें और भी हैं...