फोरम में 700 से 800 मामले है लंबित:जिला उपभोक्ता फोरम को डेढ़ साल से स्थाई अध्यक्ष का इंतजार

सवाई माधोपुर2 महीने पहले
जिला उपभोक्ता फोरम सवाई माधोपुर।

सवाई माधोपुर जिला उपभोक्ता फोरम को डेढ़ साल से स्थाई अध्यक्ष का इंतजार है। स्थाई अध्यक्ष नहीं होने के चलते यहां उपभोक्ताओं को राहत नहीं मिल पा रही है। अगर सवाई माधोपुर जिला उपभोक्ता फोरम को स्थाई अध्यक्ष मिले तो जिलेवासियों को इसका फायदा मिल सके।

सवाई माधोपुर जिला उपभोक्ता फोरम के स्थाई अध्यक्ष जगदीश प्रसाद शर्मा का कार्यकाल 10 जून 2020 को खत्म हो गया था। कोरोना के चलते यहां कोर्ट में सुनवाई बन्द हो गई थी। यह पद साल 2021 तक खाली रहा। जिसके बाद सवाई माधोपुर जिला उपभोक्ता फोरम को 18 जनवरी 2021 को कार्यवाहक अध्यक्ष मिला, लेकिन कार्यवाहक अध्यक्ष देवकरण गुर्जर के पास करौली जिले का भी चार्ज है। जिसके चलते वह यहां सप्ताह में एक बार ही आ पाते है।

जिससे जिला उपभोक्ता फोरम में एक महिने में चार दिन ही सुनवाई हो पाती है। ऐसे में जिले की उपभोक्ता सम्बन्धित समस्याओं का समाधान नहीं हो पा रहा है। जिला कलेक्ट्रेट में बने जिला उपभोक्ता फोरम में शिकायतकर्ता बीमा, फाइनेंस, इलेक्ट्रोनिक्स, बिजली जैसी समस्याओं के समाधान के लिए आते है। फोरम में पचास लाख रुपए तक के माललों को निपटारा किया जाता है। अगर जिले की जिला उपभोक्ता फोरम में स्थाई अध्यक्ष की नियुक्ति हो जाए तो यहां सुचारू रूप से उपभोक्ता फोरम चल सके। जिसका फायदा जिले के उपभोक्ताओं को मिल सके।

700 से 800 मामले है लंबित
उपभोक्ता कानून विशेषज्ञ हरिप्रसाद योगी ने बताया कि जिला उपभोक्ता फोरम में फिलहाल 700 से 800 मामले है लंबित है। जिला उपभोक्ता फोरम में 21 दिन परिवाद दर्ज कराने और 90 दिन में शिकायत के निस्तांतरण का प्रावधान है। अगर सवाई माधोपुर जिला जिला उपभोक्ता फोरम को सालों से स्थाई अध्यक्ष मिल जाए तो लंबित मामलों में नियमित सुनवाई हो सकेगी। जिससे लंबित मामलों का निपटारा हो सकेगा।