जागरूकता अभियान:पर्यावरण की शुद्धता के लिए मिलकर करें सार्थक प्रयास : किरण सेठ

सवाई माधोपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पद्मश्री से सम्मानित डॉ. किरण सेठ का कहना है कि पर्यावरण की शुद्धता के लिए सार्थक प्रयासों की जरूरत है, इसके लिए सभी को मिलकर प्रयास करने होंगे। डॉ. किरण सेठ मंगलवार को करीब दो हजार किमी से अधिक की साइकिल यात्रा करते हुए गंगापुर पहुंचे। यहां पर्यावरण प्रेमियों ने उनका माला साफा पहनाकर स्वागत किया।

मंगलम होटल में आयोजित हुए समारोह में पद्मश्री डॉ. किरण सेठ ने कहा कि वर्तमान भौतिकवादी युग में सर्वाधिक नुकसान पर्यावरण को हुआ है, समय रहते यदि हम सभी सजग नहीं हुए तो इसके भयावह परिणाम देखने को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि उनका साइकिलिंग कोई फैशन नहीं है यह तो प्रकृति को लाभ पहुंचाने का एक जरिया है। साइकिलिंग करने से मानसिक एवं शारीरिक विकास होता है साथ ही पर्यावरण भी स्वस्थ्य रहता है। सत्तर वर्षीय किरण सेठ रोजाना 50 किलोमीटर साइकिल चलाते हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक पर्यावरण की शुद्धता के लिए लोगों को जागरूक कर रहे हैं। बीती रात उन्होंने मलाना डूंगर में विश्राम किया।

मंगलवार सुबह यहां पहुंचने पर मंगलम होटल के निदेशक पंकज मंगलम, सैनी (माली) समाज के जिला अध्यक्ष सीएल सैनी, क्रिएटिव साइंस एकेडमी निदेशक महेन्द्र शर्मा सहित कई शिक्षाविदों ने डॉ. किरण सेठ का नागरिक अभिनंदन भी किया। डॉ. सेठ ने 11 मार्च को राजघाट नई दिल्ली से अपनी साइकिल यात्रा शुरू की। वे अलवर, जयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, अहमदाबाद, बड़ौदरा, गोधरा, उज्जैन, कोटा, सवाई माधोपुर होते हुए गंगापुर सिटी पहुंचे।
1977 में स्पीक मैके की शुरुआत
डाॅ. सेठ में दिल्ली यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर रहते हुए 1977 में स्पीक मैके की शुरुआत की थी। उनका कहना है कि आईआईटी में पढ़ाते हुए देखने में आया कि प्रतिभाशाली युवाओं को काफी कुछ सिखाते हैं लेकिन फिर भी युवा डिप्रेशन में रहता है। इसमें कई युवा आत्महत्या तक कर लेते हैं। इसी को देखते हुए स्कूल कॉलेजों में युवाओं को शास्त्रीय संगीत से जोड़ने की ठानी।

खबरें और भी हैं...