, मनमर्जी से बजरी दरें का विरोध:लीज धारकों पर ज्यादा राशि वसूलने पर विरोध, बजरी ट्रक ऑपरेटर्स हुए लामबंद

सवाई माधोपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बजरी ट्रक ऑपरेटर्स 28 सितंबर को सीएम हाउस का घेराव व प्रदर्शन करेंगे

लीज धारकों की ओर से अवैध बजरी खनन करने, मनमर्जी से बजरी दरें वसूलने और ओवरलोड बजरी भरने के विरोध में बजरी ट्रक ऑपरेटर्स लामबंद हो गए हैं। इसके विरोध में बजरी ट्रक ऑपरेटर्स 28 सितंबर को सीएम हाउस का घेराव और प्रदर्शन करेंगे। इससे पहले सिविल फाटक पर आम सभा की जाएगी। सभा के लिए ऑल राजस्थान बजरी ट्रक ऑपरेर्टस वेलफेयर सोसायटी के प्रदेशाध्यक्ष नवीन शर्मा के नेतृत्व में रविवार को सवाईमाधोपुर में रसूलपुरा में एक सभा का आयोजन किया गया।

इसमें प्रदर्शन की रणनीति और तैयारियों को लेकर बजरी ट्रक ऑपरेटर्स की ओर से चर्चा की गई। शुरूआत में पदाधिकारियों ने शर्मा का साफा पहनाकर कर स्वागत किया। शर्मा के बाद सभा को महामंत्री इंद्राज कोराना, सन्नू खां, शंकर बनेठी और महेश बागर, हाजी इमामुद्दीन , गज्जू सिंह, सुरेंद्र सिंह और कैलाश यावद ने संबोधित किया। इससे पहले यूनिन के पदाधिकारी 15 सितंबर को राजधानी में बड़ी सभा कर चुके हैं। पदाधिकारियों का कहना है कि लीगल बजरी शुरू होने के बाद भी लोगों को सस्ती बजरी नहीं मिल रही है। इससे गरीबों के आशियान बनना मुश्किल हो गया है।

लीज धारक मनमर्जी से दरें वसूल कर जेब भर रहे हैं। ट्रकों में ओवरलोड बजरी भरी जा रही है और लीजधारक अंडरलोड रवन्ने दे रहे हैं। इससे सरकार को राजस्व का नुकसान हो रहा है तो सड़कें क्षतिग्रस्त हो रही हैं। इतना ही नहीं जीएसटी बिल भी नहीं देकर टैक्स की चोरी कर रहे हैं। अवैध खनन के लिए सरकार की ओर से गठित की गई डीएसटी और सीएसटी टीमों के साथ लीज धारकों के व्यक्ति होते हैं जो वैध बजरी ट्रकों मालिकों को कार्रवाई के नाम डरा धमका रहे हैं और अवैध बजरी ट्रक वालों को संरक्षण दे रहे हैं। बिल्डिंग मैटेरियल की दुकानों से भर कर जा रही बजरी को अवैध बता कर कार्रवाई कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...