बाघिन के पीछे जिप्सी दौड़ाने का मामला:तीन जिप्सी व उनके चालकों पर अभयारण्य में प्रवेश पर प्रतिबंध

सवाई माधोपुर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रणथंभौर अभयारण्य में बाघिन के पीछे जिप्सी दौड़ाने का मामला

रणथंभौर अभयारण्य में जोन नं. 3 पर बाघिन के पीछे जिप्सियां दौड़ाने एवं नियमों को तोड़ने के मामले में वन विभाग ने 3 जिप्सियों एवं तीन गाइडों पर प्रतिबंध लगा दिया है। इन तीन जिप्सियों को चला रहे वाहन चालकों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। उस पारी में जितने भी वाहन जोन नं. 3 पर पर्यटकों को लेकर भ्रमण करवाने गए थे, उन सभी वाहनों के गाइड एवं चालकों को पूछताछ के लिए बुलाने के आदेश भी जारी कर दिए गए हैं।

मामला सुर्खियों में आने के बाद जयपुर से लेकर सवाई माधोपुर तक वन विभाग का अमला हरकत में है। इस मामले में सहायक वन संरक्षक एवं इंफोर्समेंट अधिकारी द्वारा एक आदेश जारी कर दिया गया है। इस आदेश के तहत इस पूरे प्रकरण में दोषी मानते हुए जिप्सी नं. आरजे 25 टीए 2244, आरजे 25 टीए 1742 एवं आरजे 25 टीए 2178 को वन क्षेत्र में जाने के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है। आदेश के तहत नेचर गाइड यादवेंद्र सिंह, दानिश परवेज एवं इकबाल मोहम्मद को भी प्रतिबंधित कर दिया गया है।

आदेश में कहा गया है कि टाइगर रिजर्व में दि. 13 मई 2022 को सुबह की पारी में जोन नं. 3 पर भ्रमण के दौरान कुछ वाहन चालकों एवं गाइडों द्वारा अपने कृत्य से टाइगर को डिस्टर्ब कर पार्क के नियमों का उल्लंघन किया गया है। मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो का गहनता से अवलोकन करने पर पाया कि निम्न वाहनों एवं गाइडों ने टाइगर को अपने कृत्य से डिस्टर्ब कर पार्क नियमों का उल्लंघन किया है। इनका तुरंत प्रभाव से पार्क में प्रवेश प्रतिबंधित किया जाता है। इस आदेश की प्रति मुख्य वन संरक्षक एवं क्षेत्र निदेशक, उप वन संरक्षक पर्यटन को भी दी गई। इन अधिकारियों द्वारा ही इस आदेश की पालना करवाई जाएगी।

वाहन चालकों का नहीं किया खुलासा

जानकारी के अनुसार विभाग ने अपने प्रथम आदेश के साथ ही इन तीनों जिप्सियों को चला रहे तीनों वाहन चालकों को भी प्रतिबंधित कर दिया है। इस पूरे मामले में जांच पूरी होकर कोई निर्णय नहीं होता हैं तब तक के लिए इनका वन क्षेत्र में किसी भी पर्यटन वाहन को लेकर जाना प्रतिबंधित रहेगा। विभाग ने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि उक्त तीनों वाहन चालक कौन है।

कब तक रहेगा प्रतिबंध, तय नहीं

विभाग ने तुरंत कार्रवाई करते हुए तीनों वाहन, वाहन चालकों एवं गाइडों पर प्रतिबंध तो लगा दिया है, लेकिन अभी इस बात के कोई आदेश जारी नहीं हुए हैं कि इन पर यह प्रतिबंध कब तक लागू रहेगा। पूर्व में इस प्रकार के कृत्य करने वाले लोगों के मामले को लेकर जब जब भी वाहन मालिक एवं चालक यूनियन के साथ नेचर गाइड यूनियन ने विभाग के अधिकारियों पर दबाव बनाया, तब तक विभाग ने उनके आगे घुटने टेके हैं।

खबरें और भी हैं...