यह लापरवाही है...:बिना फिटनेस के चंबल पाली घाट में सैलानियों को कराई सफारी

सवाई माधोपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सवाई माधोपुर | बिना फिटनेस जांच कराए चंबल घड़ियाल सेंचुरी में बोट से सफारी करते सैलानी। - Dainik Bhaskar
सवाई माधोपुर | बिना फिटनेस जांच कराए चंबल घड़ियाल सेंचुरी में बोट से सफारी करते सैलानी।
  • राजस्थान नौकायन बोर्ड से लेना होता है फिटनेस प्रमाण पत्र

सवाई माधोपुर के पाली घाट पर होने वाली घड़ियाल सेंचुरी में बिना फिटनेस के चंबल सफारी की घटना से विवाद खड़ा हो गया है। घड़ियाल सेंचुरी में बोटें बिना फिटनेस के चंबल नदी में उतर कर पर्यटकों की जान जोखिम में डाल रही हैं। नियमानुसार सभी बोटों का हर साल फिटनेस टेस्ट होना जरूरी होता है, लेकिन इस वर्ष उदयपुर से फिटनेस के लिए कोई सक्षम अधिकारी नहीं आने से बोटों का फिटनेस टेस्ट नहीं हुआ। बिना फिटनेस हुए ही बोटों को चंबल नदी में होने वाली सफारी विवादों में आ गई है।

राजस्थान नौचालन विनियमन अधिनियम, 1956 के तहत राजस्थान नौकायन बोर्ड का गठन किया गया था, जिसका मुख्यालय उदयपुर में है। सवाई माधोपुर में चंबल सफारी के लिए चलने वाली बोटों का हर साल फिटनेस टेस्ट नौकायन बोर्ड के सक्षम अधिकारियों से कराया जाता है। इसके बाद चंबल सफारी के लिए अनुमति पत्र जारी किया जाता है। चंबल सेंचुरी के पाली घाट पर भी हर साल बोटों का फिटनेस टेस्ट होता है, लेकिन इस बार उदयपुर से फिटनेस के लिए कोई सक्षम अधिकारी के नहीं आने से यहां चलने वाली बोटों का फिटनेस नहीं हो सका है।

वन विभाग की अनुमति के बिना घुमाए पर्यटक
रणथंभौर में 1 अक्टूबर से टाइगर सफारी शुरू हो चुकी है। वहीं राष्ट्रीय चंबल घडियाल सेंचुरी में घडियाल सफारी 5 अक्टूबर से शुरू होंगी, लेकिन रणथंभौर में टाइगर सफारी शुरू होने से अब पर्यटक घडियाल सेंचुरी का रूख भी करने लगे है। इसके चलते बोट मालिकों ने यहां सारे नियम कायदे दरकिनार कर पर्यटकों की जान खतरे में डालते हुए घडियाल सफारी कराई।

ट्रायल के नाम पर नदी में बाेट उतारने की अनुमति मांगी थी, कार्रवाई करेंगे
^बोट मालिकों ने ट्रायल के नाम पर नदी में बोट उतारने की अनुमति मांगी थी। बोटों की ट्रायल विभाग को भी करना है। इसके बाद बोटों को फिटनेस टेस्ट कराया जाएगा। इससे पूर्व यदि किसी ने पर्यटकों को चंबल सफारी कराई है तो उन्होंने नियमों का उल्लघंन किया है। ऐसे लोगों पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
-अनिलकुमार यादव, नेशनल चंबल घडियाल सेंचुरी, सवाईमाधोपुर

खबरें और भी हैं...