80 फीट गहरे कुएं में गिरी मां-बेटी:चिल्लाने पर ग्रामीण ने निकाला, अस्पताल में कराया भर्ती

सवाई माधोपुर19 दिन पहले
उपचार के दौरान महिला।

जाको राखे साईयां मार सके न कोय की कहावत मलारना डूंगर थाना क्षेत्र के बिच्छीदौना गांव में एकदम सटीक साबित हुई। जब कुएं पर पानी भरते समय रस्सी में उलझकर मां-बेटी 80 फीट गहरे कुएं में गिर गईं। आसपास खेतों में काम कर रहे ग्रामीणों ने सूझबूझ से मां बेटी को कुएं से सकुशल बाहर निकाल लिया। दोनों के शरीर में अंदरूनी चोटे आने से दोनों बेहोश हो गईं। दोनों को 108 एंबुलेंस से मलारना डूंगर सीएचसी पहुंचाया। 108 एंबुलेंस कर्मी जीशान खान ने बताया कि कल्ली (42) पत्नी दिनेश मीणा व गुड़िया (18) पुत्री दिनेश मीणा को 108 एंबुलेंस की सहायता से मलारना डूंगर सीएचसी पहुंचाया। बिच्छीदौना निवासी पूर्व वार्ड पंच तेजराम मीणा सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि मां-बेटी बाजरे की फसल की कटाई कर पास के कुएं पर पानी लेने गई थीं।

तभी 18 वर्षीय गुड़िया का कुएं से पानी खींचते समय रस्सी में पैर उलझ गया। इस दौरान उसकी मां कल्ली गुड़िया के पैरों से रस्सी सुलझाने पहुंची। तभी दोनों मां बेटी अनियंत्रित होकर कुएं में गिर गईं। गनीमत रही कि 80 फीट गहरे कुएं में गिरने के बाद किसी प्रकार की जनहानि नहीं हुई।

ग्रामीणों ने बताया कि कुएं में महज पांच फीट पानी था। मां-बेटी के कुएं में गिरने से अचानक तेज धमाके की आवाज सुनकर आसपास के खेतों पर काम कर रहे ग्रामीण वहां पहुंचे। तब दोनों कुएं में बचाने के लिए चिल्ला रही थीं। मलारना डूंगर सीएचसी प्रभारी डॉ सैयद सोहेल अली ने बताया कि कुएं में गिरने से मां-बेटी के गंभीर चोट आई है, लेकिन दोनों मां बेटी खतरे से बाहर है। फिलहाल सीएचसी में दोनों का इलाज किया जा रहा है।