डिस्कॉम की विजिलेंस टीम की बड़ी कार्रवाई:पिलानी व सूरजगढ़ इलाके में पकड़ी बिजली चोरी, 15 लाख का जुर्माना, 11 हजार केवी से सीधे जोड़ रखे थे ट्रांसफार्मर

चिड़ावा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अवैध ट्रांसफार्मर को मोटरसाइकिल पर ले जाते कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
अवैध ट्रांसफार्मर को मोटरसाइकिल पर ले जाते कर्मचारी।

जिले में बिजली चोरी के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए मंगलवार को डिस्कॉम ने पिलानी व सूरजगढ़ इलाके के गांवाें में दबिश देकर 16 ट्रांसफार्मर जब्त कर 15 लाख रुपए की बिजली चाेरी पकड़ी है। पकड़े गए अवैध ट्रांसफार्मर हरियाणा से अवैध रूप से लेकर आए हुए हैं। बिजली चाेरी के लिए 11 हजार केवी जैसी हाई वॉल्टेज लाइन से सीधे तार के जरिए इन ट्रांसफार्मर को जोड़ा गया था।

इसके बाद इससे खेतों में बोरवैल चलाई जा रही थी। कार्रवाई के लिए अजमेर डिस्काॅम के एमडी के निर्देश पर डिस्काॅम एएसपी सीताराम के नेतृत्व में दस टीमाें का गठन किया गया था। इन टीमों ने सवेरे पांच बजे से अपनी कार्रवाई शुरू की। जिसमें बेरी, बनगाेठड़ी, डुलािनया, छापड़ा, सरदारपुरा, सुजडाेला, लिखवा, दाेबड़ा, पीपली, गाडाेली, हमीनपुर में दबिश दी गई।

टीम जब मौके पर पहुंची तो खुद भी यह देखकर चौंक गई कि कई जगहों पर ट्रांसफार्मर को खेतों में जमीन में गाड़ा हुआ था। बाहर से देखने पर कोई यह कह ही नहीं सकता कि नीचे ट्रांसफार्मर है। इन्हें 11 हजार केवी लाइन से जोड़कर कुएं की मोटर व अन्य उपकरण चलाए जा रहे थे। यह ट्रांसफार्मर हरियाणा से बेहद सस्ते दामों पर खरीद कर लाए जाते हैं।

कार्रवाई : दस गावों में इनके यहां पकड़ी गई बिजली चाेरी

डिस्काॅम टीम ने बेरी, बनगोठड़ी, डुलानिया, छापड़ा, सरदारपुरा, सुजडोला, लिखवा, दोबड़ा, पिपली, गाडोली हमीनपुर गांवों में दबिश दी। इन सभी जगहों पर खेतों में बौरवेल चलाया जा रहा था। टीम ने बेरी निवासी काकट सिंह, अशोक, रवि, सोमवीर, मांगेराम, भानीसिंह तथा बनगाेठड़ी कलां निवासी रामपाल सिंह, राजेंद्र सिंह, सुमेर सिंह, किरण देवी, रमेश, प्रदीप सिंह, धर्मपालके यहां बिजली चाेरी पकड़ी।

यह चल रहा खेल : जो ट्रांसफार्मर 70 हजार में आता है हरियाणा में वह नकली 30 हजार में मिल रहा

बिजली चाेरी करने वाले 11 हजार केवी लाइन पर तार डालते हैं, लेकिन इससे सीधे उपकरण नहीं चलाए जा सकते। इसके लिए बीच में ट्रांसफार्मर की जरुरत होती है जो इस 11 हजार केवी को 11 केवी में बदलता है। प्रदेश में ट्रांसफार्मर खरीदने और लगाने का काम केवल डिस्कॉम करता है। वह ट्रांसफार्मर 70 से 80 हजार का होता है। हरियाणा में कुछ लोग जुगाड़ से यही ट्रांसफार्मर बनाकर बेचते हैं। जो आसानी से 30 से 50 हजार में मिल जाता है। इसे 11 हजार केवी लाइन से जोड़कर बिजली चोरी की जाती है। कार्रवाई के दौरान ये ट्रांसफार्मर घर के स्टोर रूम, मकान के पीछे जमीन पर और जलावन की लकड़ियों के बीच बाड़े मे छिपा कर रखे मिले।

पांच महीने पहले भी पकड़ी थी इन गांवाें में चाेरी

जिले के पिलानी इलाके में ​अवैध रूप से ट्रांसफार्मर लगाकर बिजली चोरी कर रहे लोगों के खिलाफ बिजली निगम की टीम ने पांच महीने पहले भी छापेमार कार्रवाई की थी। निगम की टीम ने कार्रवाई करते हुए पांच अवैध ट्रांसफार्मर व केबल को जब्त किया है। झुंझुनूं के पिलानी इलाके में लॉकडाउन के दौरान करीब 50 टयूबवैल बनाए गए हैं। कई टयूबवैल का संचालन चोरी की बिजली से किया जा रहा था। बिना कनेक्शन लिए ही अवैध रूप से ट्रांसफार्मर लगा लिए गए थे।

कार्रवाई में 10 टीमों में 50 कर्मचारी अधिकारी

एसई राजेंद्र सिंह शेखावत ने बताया कि जब्त किए गए ट्रांसफार्मर हरियाणा निर्मित हैं। अवैध रूप से ट्रांसफार्मर व केबल लगाकर चाेरी करते हैं। इनके खिलाफ वीसीआरर के अलावा थाने में मामले भी दर्ज कराए जाएंगे। कार्रवाई करने वाली दस टीमों में बिजली निगम के 50 अधिकारी व कर्मचारी शामिल थे। एसई राजेंद्रसिंह शेखावत ने बताया कि अब आगे भी कार्रवाई जारी रहेगी। कार्रवाई करने वाली टीम मे डिस्काॅम अजमेर से आए विजिलेंस एक्सईएन महेश सिंघल, चिड़ावा एक्सईएन अशाेक चाैधरी, एईएन चिड़ावा सुरेंद्र सैनी व अन्य अभियंता शामिल थे।

खबरें और भी हैं...