गर्ल्स कॉलेज के लिए दान की 8 बीघा जमीन:निजी कॉलेजों में फीस न चुकाने से बेटियाें की छूट रही थी पढ़ाई

चूरू5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दानपुण्य का पर्व मकर संक्रांति आज शुक्रवार को मनाया जाएगा। इस खास दिन पर एक ऐसे दानवीर की कहानी पढ़ें, जिन्होंने बेटियों की शिक्षा के लिए बेशकीमती करोड़ों रुपए की जमीन कॉलेज के लिए दान कर दी। वे कहते हैं कि शिक्षा से बड़ा कोई दान नहीं होता। भामाशाह पवन तोदी ने करीब दो महीने पहले मास्टर भंवरलाल मेघवाल राजकीय गर्ल्स कॉलेज के लिए सालासर रोड पर करीब दो करोड़ रुपए की आठ बीघा जमीन के लिए घोषणा की थी।

अब विधायक मनोज मेघवाल व प्रशासन की मौजूदगी में जमीन के कागजात सौंपेंगे। कागजी कार्रवाई लगभग पूरी हो चुकी है। तहसीलदार-पटवारी ने जमीन का नाप-जोल भी कर लिया है। एग्रीमेंट के दस्तावेज भी बन चुके हैं। पीड़ा : भामाशाह पवन तोदी बताते हैं कि दशकों से पीड़ा थी कि इतने बड़े शहर में बेटियों के लिए अलग से सरकारी कॉलेज नहीं हैं। जरूरतमंद परिवारों की बेटियों को कॉलेज शिक्षा के लिए वे खुद व बगड़िया ट्रस्ट के जरिए फीस दे रहे हैं। प्राइवेट कॉलेजों में दाखिले व अन्य मोटी फीस का खर्चा वहन नहीं कर पाने से गरीब परिवारांे की बेटियां आगे नहीं पढ़ पाती हैं।

पढ़ाई बीच में ही छूटने से उनके सपने टूट जाते। अब सरकारी कॉलेज में उच्च शिक्षा के साथ नाम मात्र की फीस की वजह से अब बेटियां पढ़ पाएंगी। सपना : तोदी ने बताया कि राज्य सरकार ने जब गर्ल्स कॉलेज की स्वीकृति मिली, तभी ठान लिया था कि इस कॉलेज में वे बेटियों की शिक्षा के लिए कुछ करेंगे। कॉलेज भवन के लिए जब जमीन नहीं मिल रही थी, तब आगे आकर विधायक को जमीन देने पर सहमति जता दी। उनका सपना था कि बेटियों की शिक्षा के लिए वे कुछ करें। साथ ही कॉलेज शुरू करने के लिए राजकीय पीसीबी स्कूल के छात्रावास में अस्थाई तौर पर कॉलेज शुरू होने पर भामाशाह तोदी ने ही भवन की पूरी मरम्मत करवाकर रंग-रोगन करवाकर सुविधा दी। कॉलेज में वाटर कूलर व पुस्तकों के लिए रुपए दिए।

खबरें और भी हैं...