कोरोना के बीच मदद:कोरोना संदिग्धों के अंतिम संस्कार के लिए स्वर्णकार को बाजार में पीपीई किट खरीदते देख जयपुर से बसंत ने भेजी पूरी सामग्री

चूरू6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्याम स्वर्णकार को पीपीई किट व अन्य सामग्री देती मंच की टीम। - Dainik Bhaskar
श्याम स्वर्णकार को पीपीई किट व अन्य सामग्री देती मंच की टीम।
  • सुजलांचल विकास मंच ने सुजानगढ़ की एंबुलेंस कहे जाने वाले श्याम स्वर्णकार को दिया सहयोग का आश्वासन

कोरोना की दूसरी लहर में लगातार हो रही मौतों के बाद अंतिम संस्कार में अहम भूमिका निभाने वाले टीम हारे का सहारा के श्याम स्वर्णकार की मदद के लिए सुजानगढ़ निवासी व जयपुर प्रवासी बसंत बगड़ा ने पीपीई किट सहित अन्य सामग्री जयपुर से भेजी है। बगड़ा ने बताया कि वे पिछले कई दिनो से सोशल मीडिया व मीडिया के जरिए देख रहे हैं कि सुजानगढ़ की एंबुलेंस कहे जाने वाले स्वर्णकार पीड़ितों की मदद के लिए दिन-रात जुटे हैं। एक-दो दिन पहले सुजानगढ़ से ही सूचना मिली कि श्याम स्वर्णकार को सिर्फ कोरोना संक्रमित के अंतिम संस्कार के लिए पीपीई किट उपलब्ध होती हैं

जबकि कोरोना संदिग्ध के लिए वे खुद अपने खर्चे से पीपीई किट बाजार से खरीद रहे हैं। ये सुनकर उन्होंने तुरंत सुजलांचल विकास मंच के महावीर पाटनी से बात कर जयपुर से 30 पीपीई किट, ग्लव्स, मास्क, सेनेटाइजर आदि सुजानगढ़ भिजवाएं। गुरुवार को दिगंबर जैन मंदिर के पास श्याम स्वर्णकार को ये सामग्री देकर कहा कि जब भी कोई काम की जरूरत हो, वे बताएं, मदद करेंगे।

खुद व मृतक के परिजनों के लिए खरीद रहे थे पीपीई किट

मंच के महावीर पाटनी ने बताया कि 27 अप्रैल को उनके वार्ड के एक व्यक्ति की राजकीय अस्पताल हो मौत हो गई थी। वे कोरोना संदिग्ध थे। उस समय बाजार से अपने खर्च पर खरीदकर श्याम ने पीपीई किट खुद व परिजनों को पहनाकर अंतिम संस्कार करवाया था। ये सूचना पूर्व विधायक फूलचंद जैन के पुत्र बसंत बगड़ा को भी मिली।

स्वर्णकार से बात की तो उन्होंने कहा कि कोरोना संदिग्ध मृतक के लिए पीपीई किट नहीं दी जाती। बाद में निर्णय लिया कि मंच द्वारा पीपीई किट व अन्य सामान की जरूरत पूरी की जाएगी। कार्यक्रम में मंच के उषा बगड़ा, पारसमल बगड़ा, महक पाटनी, लालचंद बगड़ा, विनीत बगड़ा आदि थे।

खबरें और भी हैं...