पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बड़ी परेशानी:कोरोना से भी खतरनाक कोविड निमोनिया, डीबीएच में राेजाना पहुंच रहे ऐसे 700 मरीज

चूरूएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चूरू. डीबी अस्पताल के इमरजेंसी के पास एचआर सीटी स्कैन कराने के लिए लगी कतार। रोज 100 से ज्यादा मरीज पहुंच रहे हैं। - Dainik Bhaskar
चूरू. डीबी अस्पताल के इमरजेंसी के पास एचआर सीटी स्कैन कराने के लिए लगी कतार। रोज 100 से ज्यादा मरीज पहुंच रहे हैं।
  • 889 नए कोरोना मरीज, 3 की मौत, तीन कोविड संदिग्धों ने भी दम तोड़ा
  • डीबीएच में भर्ती 150 मरीजों में 120 कोविड निमोनिया के

जिले में शुक्रवार को 869 नए कोरोना मरीज मिले। तीन कोरोना पॉजिटिव एवं तीन कोरोना संदिग्ध सहित छह लोगों की मौत हो गई। कोरोना की दूसरी लहर का वायरस इस बार हवा में है। इस वायरस से लोग कोरोना पॉजिटिव हो रहे हैं, वहीं मामूली सर्दी-जुकाम की अनदेखी करने एवं कमजोर इम्युनिटी वाले कोविड निमोनिया की चपेट में आ रहे हैं। दो-तीन दिन अनदेखी के बाद कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों में संक्रमण बढ़ने लगता है, जिससे उनका ऑक्सीजन लेवल 80% से कम तक चला जाता है।

फिजिशियन की माने तो सामान्य व्यक्ति का ऑक्सीजन लेवल बिना बुखार के 93 या इससे अधिक होना चाहिए। डीबीएच में भर्ती 150 मरीजों में 120 कोविड निमोनिया के हैं। जिला मुख्यालय के कोविड डेडिकेटेड डीबी अस्पताल से कोविड से 20 से 30 गुना ज्यादा कोविड निमोनिया के मरीज आईपीडी में आ रहे हैं।

चौंकाने वाली बात ये है कि डीबी अस्पताल की ओपीडी में प्रतिदिन 600 से लेकर 800 तक मरीज की हो गई है, मगर अस्पताल में ऑक्सीजन बेड नहीं होने के कारण मुश्किल 30 से 50 मरीज भर्ती होने में सफल हो पाते हैं। कोविड वार्ड प्रभारी डॉ. साजिद चौहान का कहना है कि सर्वाधिक आईपीडी कोविड निमोनिया मरीजों की है। प्रतिदिन एचआर सिटी जांच करवाने वालों की संख्या 100 से अधिक होती है।

डॉक्टरों के अनुसार कोविड निमोनिया से बचाव के लिए सबसे अच्छा उपाय अपनी इम्युनिटी को मजबूत रखना ही है। इसके लिए हैल्दी खाना खाएं, भरपूर नींद लें, पानी पर्याप्त मात्रा में लें।

एक्सपर्ट व्यू : कोविड निमोनिया में दोनों फेफड़ों मेें तेजी से फैलता है संक्रमण
^मेडिकल कॉलेज के सहायक आचार्य एवं फिजिशियन डॉ. दीपक चौधरी का कहना है कि आम निमोनिया से कोविड निमोनिया भिन्न है। आम निमोनिया एक साइड के फेफड़े में संक्रमण होता है, जबकि कोविड निमोनिया में दोनों फेफड़ों में तेजी संक्रमण फैलता है। सर्दी, जुकाम और बुखार को नजरदांज नहीं करना चाहिए। लोग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे, जिसके कारण इसके मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। नीम-हकीम की बजाय डॉक्टर से तुरंत परामर्श लें।

मेडिकल कॉलेज के सहायक आचार्य डॉ. आरिफ खान का कहना है कि कोविड की दूसरी लहर में वायरस हवा में फैला हुआ है। सोशल डिस्टेंस नहीं रखने एवं मास्क नहीं लगाने वाले कमजोर इम्युनिटी के लोग जल्दी ही इसका शिकार हो जाते हैं। इसकी गिरफ्त में आने वाले लोगों में बुजुर्ग, विभिन्न बीमारियों से पीड़ित लोग एवं कमजोर इम्युनिटी वाले लोग शामिल हैं।

दोनों तरह के निमोनिया में अंतर : जिन लोगों को कोविड निमोनिया होता है उनके दोनों फेफड़ों में इंफेक्शन होता है। वहीं, आम निमोनिया वाले मरीजों में ज्यादातर इंफेक्शन एक फेफड़े में होता है। कोविड निमोनिया की पहचान डॉक्टर सीटी स्कैन और एक्स-रे के जरिए कर लेते हैं
कोविड निमोनिया के ये हैं लक्षण : आम निमोनिया जैसे ही लक्षण होते हैं। इसमें तेज बुखार आना, बलगम नहीं आना, सूखी खांसी, ठंड लगना या फिर गले में खराश होती है। सांस लेने में तकलीफ, सीने में दर्द, थकान। गंभीर लक्षण सांस लेने में तकलीफ है। चेहरे का रंग बदलना व हार्टबीट में बदलाव भी।

कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों को ज्यादा खतरा
कोविड निमोनिया से उन लोगों को होने का ज्यादा खतरा है, जिनकी उम्र ज्यादा है। मेडिकल स्टाफ को होने की आशंका ज्यादा होती है, जो लोग फेफड़ों की बीमारी से पीड़ित हैं, अस्थमा या हार्ट की बीमारी से पीड़ित मरीजों को, लीवर या डायबिटीज के मरीजों को, कैंसर मरीज या एचाआईवी मरीज और मोटापे या कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों को निमोनिया कोविड होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है।

जिले में 3 दिन में 2677 कोरोना मरीज मिल चुके
जिले में शुक्रवार को 869 कोरोना मरीज मिले। 3 कोरोना पॉजिटिव व 3 कोरोना संदिग्धों की मौत हो गई। नए संक्रमितों में रतनगढ़ में 110, चूरू में 156, तारानगर में 150, सुजानगढ़ में 132, राजगढ़ में 155 एवं सरदारशहर में 123 मिले। जिले में पिछले तीन दिन में 2677 मरीज मिल चुके हैं। वहीं दूसरी लहर में अब तक 8513 संक्रमित आ चुके हैं। डीबीएच के काेविड वार्ड प्रभारी डॉ. साजिद चौहान ने बताया कि सुजानगढ़ की 52 वर्षीय महिला की कोरोना से मौत हो गई।
सुजानगढ़ | 3 कोविड पॉजिटिव और 3 कोरोना संदिग्धों की मौत हो गई। जिनरासर गांव के 70 वर्षीय पॉजिटिव बुजुर्ग की सुजानगढ़ अस्पताल में मौत हो गई। खटीक बस्ती निवासी 40 वर्षीय युवक की जयपुर में मौत हो गई। वहीं तीन कोविड संदिग्ध लोगों की भी मौत हुई।

खबरें और भी हैं...