कार्यवाही:बिजली के बिलों में जोड़ी गई गलत राशि निरस्त कर मानसिक क्षतिपूर्ति व परिवाद व्यय देने के आदेश

चूरूएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग, चूरू ने बिजली के बिलों में गलत राशि जोड़कर लेने के दायर दो परिवाद की सुनवाई करते हुए जोधपुर डिस्कॉम को आदेश दिए कि परिवादियों को मानसिक क्षतिपूर्ति व परिवाद व्यय की राशि अदा करें। मामले के अनुसार सुशील कुमार सहारण पुत्र दाताराम जाट निवासी वार्ड 16, तारानगर ने परिवाद दायर किया कि उसने घरेलू उपयोग के लिए बिजली का कनेक्शन ले रखा है।

डिस्कॉम ने जनवरी 2017 का बिल में अन्य देय राशि के कॉलम में 22766 रुपए गलत जोड़कर 28140 रुपए का भिजवाया। पूछने पर उसे बताया कि उक्त राशि ऑडिट की लगाई है। ऑडिट दल की तरफ से परिसर में छात्रावास होने के कारण उक्त राशि लगाई गई है, जबकि इस अवधि के दौरान उसके पास कोई छात्रावास नहीं था।

आयोग के अध्यक्ष फूलचंद झाझड़िया व सदस्य संतोष मासूम ने परिवादी का परिवाद स्वीकार करते हुए डिस्कॉम को परिवादी को 20 हजार रुपए मानसिक क्षतिपूर्ति व पांच हजार रुपए परिवाद व्यय के रूप में भी देने होंगे।

वहीं आयोग के अध्यक्ष व सदस्य ने रोहित वर्मा पुत्र हरिकिशन दर्जी निवासी वार्ड 22, चूरू के परिवाद को स्वीकार करते हुए परिवादी के जनवरी 2018 के बिल में जोड़ी गई राशि मय सरचार्ज निरस्त की जाती है। डिस्कॉम को परिवादी को 10 हजार रु. मानसिक क्षतिपूर्ति व 5 हजार रुपए परिवाद व्यय के भी देने होंगे। दोनों में परिवादी की तरफ से पैरवी एडवोकेट धन्नाराम सैनी ने की।

खबरें और भी हैं...