निर्णय वापस नहीं लेने पर आंदोलन की चेतावनी:संगठनों ने गोचर की जमीन के पट्‌टे बनाने के निर्णय का जताया विराेध

चूरू4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राज्य सरकार द्वारा गोचर भूमि के पट्‌टे बनाए जाने के निर्णय के विरोध में गुरुवार को विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने आक्रोश प्रकट किया। नारेबाजी करते हुए वसुंधरा राजे समर्थक मंच, सर्व स्वामी जनसेवा संस्थान, अभिभाषक संघ रतनगढ़, श्रीपरशुराम इंटरनेशनल संगठन एवं श्रीराष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार अशोक कुमार को ज्ञापन दिया।

ज्ञापन में उल्लेख है कि राज्य सरकार ने निर्णय लिया है कि चारागाह भूमि, ओरण में तीस वर्ष पुराने आवासीय अतिक्रमण का नियमन कर पट्‌टे जारी किए जाएंगे। यदि सरकार निर्णय को वापस नहीं लेगी ताे बड़ा अांदाेलन किया जाएगा। इस मौके पर एडवोकेट मनीष शर्मा, पूर्व पार्षद राकेश शर्मा, अभिभाषक संघ अध्यक्ष रोहिताश शर्मा, एडवोकेट जगदीश स्वामी, भगवानसिंह लधासर अादि माैजूद रहे। बीदासर | गाेचर भूमि, जोहड़ पायतन व मंदिर माफी की जमीन के पट्टे जारी करने के राज्य सरकार के निर्णय के विराेध में गुरुवार काे लाेगांे एसडीएम श्याेराम वर्मा काे ज्ञापन साैंपा। ज्ञापन में उल्लेख है कि इस निर्णय से केवल भूमाफियाअाें काे फायदा हाेगा। इस दाैरान पूर्व पालिका उपाध्यक्ष जयप्रकाश बैंगानी, किशनानंद स्वामी, प्रशांत सोनी, एडवोकेट जगदीश प्रजापत, संजय स्वामी, सीताराम साेनी, नौरतमल यादव, लक्ष्मण गुर्जर अादि माैजूद रहे।

रास्ते में पानी भरने व अतिक्रमण का विरोध, टायर जलाकर किया प्रदर्शन
भोजाण के ग्रामीणों ने रास्ते पर पानी भरने एवं अतिक्रमण की समस्या का समाधान करने की मांगों को लेकर टायर जलाकर प्रदर्शन किया। नवीनसिंह राठौड़, मदन गोस्वामी, मनोज, संदीप, सुनील पिलानिया, हसन, मिठूसिंह राठौड़, प्रेम गोस्वामी, बनवारीलाल शर्मा, अमित शर्मा, ललित शर्मा, विनोद कुमार, रामसिंह, सुनील, मोहनलाल अादि ने बताया कि गांव में मुख्य रास्तों पर आना-जाना मुश्किल हो रहा है।

स्कूल जाने वाले रास्ते पर पानी भरने के कारण बच्चों का स्कूल जाना दूभर बना हुआ है, वहीं मेघवाल धर्मशाला के चारों तरफ अतिक्रमण हो रहा है। सार्वजनिक कुएं के भी यही हालात है। उन्होंने बताया कि उक्त समस्याओं के समाधान को लेकर एसडीएम को ज्ञापन दिया गया था, लेकिन अब तक कार्यवाही नहीं की गई। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि अगर दो दिन में कोई कार्यवाही नहीं हुई तो गांव में आने वाले सभी रास्तों को बंद कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...