पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कॉलेज एजुकेशन:15 हजार कॉलेज स्टूडेंट्स के प्रैक्टिकल कल से, यूजी-पीजी एग्जाम 15 अगस्त बाद संभव

चूरू13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • यूजीसी ने दे रखे हैं 30 अगस्त से पहले परीक्षाएं कराने के निर्देश
  • गंगासिंह विवि ने टाइमटेबल जारी नहीं किया, डेढ़ लाख स्टूडेंट्स कर रहे इंतजार

चूरू जिले में पीजी-यूजी अंतिम वर्ष के करीब 15 हजार कॉलेज स्टूडेंट्स के प्रैक्टिकल 23 जुलाई से शुरू होंगे। महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय बीकानेर से डेढ़ लाख स्टूडेंट परीक्षा की तारीखें का तब से इंतजार कर रहे हैं, जब से सरकार ने स्नातक और स्नातकाेत्तर के अंतिम वर्ष के स्टूडेंट की परीक्षाएं कराने का ऐलान किया है। स्टूडेंट प्रतिदिन उस तारीख का इंतजार करते हैं, जिस दिन से उनकी परीक्षाएं शुरू हाेंगी।

यूजीसी ने 30 अगस्त तक परीक्षाएं पूरी करने का ऐलान किया, लेकिन महाराजा गंगासिंह विवि की तैयारियां देखकर नहीं लगता कि समय पर परीक्षाएंं हाे सकेंगी, क्योंकि 23 जुलाई से ताे अंतिम वर्ष के प्रैक्टिकल शुरू हाेंगे जाे 10 अगस्त तक चलेंगे। इसके बाद 20 दिन में परीक्षाएं होना मुश्किल है।

पहले फेज में होनी हैं स्नातक व स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं

नियमाें के तहत जब से परीक्षाएं शुरू हाेंगी उसके 15 दिन पहले विवि काे परीक्षा कार्यक्रम घाेषित करना हाेगा। फिलहाल परीक्षा कार्यक्रम तैयार ही नहीं हुआ। जानकार बताते हैं कि अगस्त के प्रथम सप्ताह तक कार्यक्रम जारी होने की संभावना है। यानी परीक्षाएं 15 अगस्त के बाद ही शुरू हाेंगी।

स्नातक अंतिम वर्ष में एक लाख पांच हजार और स्नातकाेत्तर में 45 हजार स्टूडेंट परीक्षाएं देंगे। स्नातक सेकंड ईअर की परीक्षाएं सैकंड फेज में होंगी, लेकिन पहले फेज में स्नातक और स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं होनी हैं। सैकंड फेज की परीक्षाएं कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए तय होगी। बतादें कि जिले में 13 सरकारी और 60 प्राइवेट कॉलेज है।

​​​​​​​इन विश्वविद्यालयों ने घाेषित की एग्जाम की तिथि

शेखावाटी यूनिवर्सिटी सीकर 5 अगस्त से 28 अगस्त तक स्नातक फाइनल और 6 अगस्त से 6 सितंबर तक स्नातकाेत्तर फाइनल ईयर की एग्जाम आयाेजित करा रहा है। वहीं राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर 29 जुलाई और जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय जाेधपुर पांच अगस्त से परीक्षाएं शुरू कर रहा है।

विवि ने यूजी-पीजी के अंतिम वर्ष स्टूडेंट के प्रैक्टिकल की तिथियां घाेषित की हैं। 23 जुलाई से 10 अगस्त तक प्रैक्टिकल हाेंगे। 26 जुलाई से विशेष काेविड परीक्षाएं हाेंगी। विश्वविद्यालय पूरे प्रयास में हैं कि अगस्त अंत तक परीक्षाएं कराएं।

-डाॅ. बिट्ठल बिस्सा, प्रवक्ता एमजीएस विवि

​​​​​​​कॉलेज स्टूडेंटस के वैक्सीनेशन को लेकर काेई गाइडलाइन नहीं
प्रदेश भर में परीक्षाएं कराने की तैयारी हाे रही है, लेकिन परीक्षा देने वाले स्टूडेंट के वैक्सीनेशन पर ना ताे सरकार काेई कदम उठा रही और ना ही संबंधित विवि काेई प्रयास कर रहे हैं। अगर अगस्त में परीक्षाएं शुरू हुई और जाे परीक्षार्थी परीक्षा देने आ रहा उसका वैक्सीनेशन हुआ या नहीं। इसकी ना ताे अनिवार्यता की गई है और ना ही उसके लिए सरकार-विवि स्तर पर काेई कदम उठाए जा रहे हैं। ऐसे में अगर एक भी काेराेना इंफेक्टेड स्टूडेंट परीक्षा देने आया ताे उस कक्ष के सभी परीक्षार्थियाें काे खतरा हाेगा।

15 हजार स्टूडेंट्स को विशेष दर्जा देकर प्रशासन व चिकित्सा विभाग करा सकता है वैक्सीनेशन

वैसे भी 18 से 45 के बीच युवाओं का वैक्सीनेशन चल रहा है। चिकित्सा विभाग या जिला प्रशासन जिले के करीब 15 हजार उन स्टूडेंट काे विशेष दर्जा देकर वैक्सीनेशन में प्राथमिकता दे सकता है जिन्हें परीक्षाओं में बैठाना है। इसके लिए यूनिवर्सिटी के कुलपति संबद्ध जिलों के कलेक्टर को पत्र लिख दें, तो वे जिला स्तर सीएमएचओ को कहकर वैक्सीनेशन करवा सकते है।

जिले के नोडल अधिकारी एवं लोहिया कॉलेज के प्राचार्य प्रो. दिलीप पूनिया का कहना है कि फिलहाल प्रैक्टिकल एग्जाम की तारीख घोषित हुई है। वैक्सीनेशन के बारे में उनका कहना है कि इस बारे में यूनिवर्सिटी में बात की जाएगी। जरूरत पड़ने पर जिला कलेक्टर को लिखा जाएगा।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...