पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रशासन पर लापरवाही का आरोप:राठौड़ बोले-नगर परिषद व प्रशासन की लापरवाही से टूटी गाजसर गेनाणी

चूरूएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चूरू.भालेरी रोड पर जाम लगाते गाजसर के ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
चूरू.भालेरी रोड पर जाम लगाते गाजसर के ग्रामीण।

गाजसर गेनाणी टूटने के मामले को लेकर शाम को भाजपा नेताओं ने नगरपरिषद व प्रशासन पर लापरवाही बरतने तथा रख-रखाव के नाम पर नगरपरिषद द्वारा फर्जी बिल उठाने के आरोप लगाए। विधायक राजेन्द्र राठौड़ के आवास पर हुई प्रेसवार्ता में वर्चुअल तरीके से बोलते हुए राठौड़ ने कहा कि गेनाणी का समय पर निरीक्षण होना चाहिए था, मगर अधिकारी जाते ही नहीं।

नगरपरिषद समस्याओं के समाधान व विकास की बजाए चौथ वसूली का अड्‌डा बन गई है। हमारे समय में भी गेनाणी टूटी तो रातभर जागकर पानी निकासी करवाई, मगर इस बार नगरपरिषद व प्रशासन समय पर नहीं पहुंचा, जो दुर्भाग्यपूर्ण है। पूर्व जिला प्रमुख हरलाल सहारण ने कहा कि सब नगरपरिषद व प्रशासन की लापरवाही से हुआ है। सुबह गेनाणी के टूटने के बाद ग्रामीणों ने सभापति को फोन किया, मगर नहीं उठाया।

प्रधान दीपचंद राहड़ सहित भाजपा नेताओं को सूचना मिलने पर हम तत्काल पहुंच गए, मगर नगर परिषद के अधिकारी व एसडीएम हमारे बाद में पहुंचे। नगरपरिषद में भाजपा का बोर्ड होने के दौरान गेनाणी के लिए छह करोड़ रुपए का बजट स्वीकृत करवाया, जिनमें से करीब 4.30 करोड़ रुपए खर्च हो गए। बाद में कांग्रेस का राज आया तो शेष बजट खर्च के अभाव में लेप्स हो गया।

गेनाणी का पानी पास के डेम व दो जोहड़ में छोड़ा जाता है, मगर नगरपरिषद ने ऐसा नहीं किया तथा इसके नाम पर सैकड़ों लीटर पेट्रोल-डीजल की खपत दिखाकर फर्जी बिल उठा रही है। राठौड़ ने 22 लाख रुपए खर्च कर गेनाणी के पानी को खेती के काम में लिए जाने के लिए पाइप लाइन डलवाई थी, नगरपरिषद ने रुकवा दिया तथा अब किसानों ने पानी के उपयोग के बदले रुपए मांगे जा रहे हैं। पूर्व जिलाध्यक्ष वासुदेव चावला, प्रधान दीपचंद राहड़ ने भी संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...