बिश्नोई को सिंघम के नाम से जानते थे / बीकानेर संभाग के बेस्ट ऑफिसर थे एसएचओ बिश्नोई

X

  • हनुमानगढ़ के संगरिया में बिश्नोई को सिंघम के नाम से पुकारते हैं लोग

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

चूरू. चूरू जिले के राजगढ़ में अपने सरकारी क्वार्टर में फंदा लगाकर आत्महत्या करने वाले राजगढ़ थाना प्रभारी विष्णुदत्त बिश्नोई बीकानेर संभाग के बेस्ट और जिंदादिल एसएचओ माने जाते थे। उनके दुखद अंत पर सहसा ही किसी काे विश्वास नहीं हो रहा।  वे  मूलतया श्रीगंगानगर के रायसिंहनगर के रहने वाले थाे। अभी उनका परिवार बीकानेर में रहता है। उनका एक बेटा और एक बेटी है, जाे बीकानेर में पढ़ाई करते हैं।विष्णुदत्त बिश्नोई ने नवंबर, 2019 में राजगढ़ में कार्य संभाला था।  चूरू जिले में वे पहले सब इंस्पेक्टर व दूसरी पारी में इंस्पेक्टर के रूप में विभिन्न थानों में कार्यरत रहे। उनके सेवाकाल को करीब 21 साल हो गए थे।  विश्नोई ने 3 नवंबर, 1997 को पुलिस सेवा ज्वॉइन की। उनकी पोस्टिंग जयपुर, बीकानेर सहित कई स्थानों पर रही। बीकानेर संभाग के भी कई जिलों में वे कार्यरत रहे। हनुमानगढ़ के संगरिया में उन्होंने कई अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई की थी। वहां आज भी वहां के लोग उन्हें सिंघम के नाम से पुकारते हैं।  हनुमानगढ़ कांग्रेस जिलाध्यक्ष केसी बिश्नोई ने सीएम को पत्र भेजकर सादुलपुर सीआई बिश्नोई के मृत्यु प्रकरण की सीबीआई जांच करवाने की मांग की है। पत्र में लिखा गया है कि विष्णुदत्त एक आदर्श, जांबाज और ईमानदार अधिकारी थे, वे आत्महत्या नहीं कर सकते।  इस मामले की सीबीआई से जांच करवाकर दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना