पूर्व केंद्रीय मंत्री सारण की जयंती:वक्ता बोले-पूर्व केंद्रीय मंत्री सारण किसानों के हितों के लिए संघर्ष करते रहे, जेल भी गए

चूरू4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

तेजा मंदिर में गुरुवार को अखिल राजस्थान किसान, मजदूर व कर्मचारी संयुक्त महासंघ के नेतृत्व में पूर्व केन्द्रीय मंत्री, स्वतंत्रता सेनानी व किसान नेता दौलतराम सारण की जयंती पर पुष्पांजलि अर्पित की गई। मुख्य अतिथि महासंघ प्रदेशाध्यक्ष आदूराम न्यौल ने कहा कि सहारण ने बीकानेर संभाग के गांव व ढाणियों में पैदल यात्रा करके शिक्षा की अलग जगाई। मरूस्थलीय क्षेत्र में नहर लाना उनकी पहली प्राथमिकता थी।

किसानों के हितों के लिए संघर्ष करते हुए वे कई बार जेल भी गए तथा आपातकाल के दौरान उन्हें सरकार ने 19 माह तक जेल में बंद रखा। सामाजिक कुरीतियों को मिटाने के लिए वे हमेशा संघर्षरत रहे। इस दौरान श्योराम पायल, रघुवीरसिंह सहारा, ओमप्रकाश गेट, हरफूल बेरवाल, किशनाराम बाबल, हुणताराम ईसराण, रामवतार भांबू, मंगलचंद खीचड़, कुलदीप न्यौल, जितेन्द्र न्यौल, दिनेश न्यौल, कमल स्वामी, श्रवण बसेर, तनाराम थालोड़ आदि ने सारण के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की।

आदर्श कन्या किसान छात्रावास में गुरुवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री दौलतराम सारण जयंती मनाई गई। उपस्थिति लाेगाें ने सारण की तस्वीर पर माल्यार्पण किया अाैर उनके जीवन पर प्रकाश डाला। राजस्थान किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष कृष्ण सारण ने कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री गांधीवादी नेता थे अाैर हमेशा कमजाेर लाेगाें की अावाज संसद में उठाई। ताराचंद सारण, पालिका उपाध्यक्ष अब्दुल रसीद चायल, मंडी चेयरमैन इंद्राज सारण, जिप सदस्य शीशपाल सारण, श्योकरण पोटलिया, बीरबलनाथ सिद्ध, दलीप सारण, समुंद्रसिंह हुड्डा आदि ने सारण काे श्रद्धांजलि अर्पित की।

खबरें और भी हैं...