• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Churu
  • The Post Of Cardiology Physician And Surgeon In The Hospital Is Vacant, About 120 Patients Come In A Month, After Doing First Aid, They Are Referred To Jaipur Bikaner.

डॉक्टर नहीं होने से हार्ट पेशेंट परेशान:अस्पताल में कॉर्डियोलॉजी फिजीशियन व सर्जन का पद खाली,महीने में करीब 120  मरीज आते, प्राथमिक उपचार कर जयपुर-बीकानेर कर देते रेफर

चूरू2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजकीय डेडराज भरतिया अस्पताल - Dainik Bhaskar
राजकीय डेडराज भरतिया अस्पताल

पंडित दीनदयाल उपाध्याय मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध राजकीय डेडराज भरतिया अस्पताल बीकानेर संभाग का दूसरा सबसे बड़ा अस्पताल है। इसके बावजूद कॉर्डियोलॉजी फिजीशियन व कॉर्डियोलॉजी सर्जन का पद तक सृजित नहीं है। यहां आपातकालीन वार्ड में औसतन महीने के 120 हार्ट पेशेंट आते हैं। ईसीजी के बाद जांच रिपोर्ट के आधार पर रोगी का प्राथमिक उपचार कर दिया जाता है। ऐसे में यदि रोगी की तबीयत ज्यादा बिगड़ जाए तो वह भगवान भरोसे ही है। टीएमटी एवं इको कार्डियोलॉजी जांच की अत्याधुनिक मशीन होने के बावजूद अभी तक डिब्बों में बंद है।

जयपुर ले जाने पर हुआ उपचार
चूरू के रहने वाले किशनलाल राजकीय भरतिया अस्पताल के आपातकालीन वार्ड पहुंचे। जिनकी ईसीजी की गई तो कार्डियक अरेस्ट की संभावना जताई गई। गंभीर हालत में चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार कर जयपुर रैफर कर दिया। इस बीच अस्पताल में सक्रिय लपका गिरोह ने परिजनों को चूरू के ही कुछ निजी अस्पतालों में जाने का सुझाव दिया। गनीमत रही कि उन्हें तुरंत जयपुर ले जाकर उपचार करवाया गया।

चिकित्सकों के अभाव में नहीं मिल पा रहा इलाज
जिला अस्पताल में न्यूरोलॉजी फिजीशियन, गेस्ट्रोलॉजी, पीडियाट्रीक सर्जरी के भी पद सृजित नहीं है। इसके कारण अस्पताल में आने वाले मरीजों का प्राथमिक उपचार कर जयपुर या बीकानेर रैफर करना पड़ रहा है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. महेश मोहनलाल पुकार ने बताया कि अभी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस का बैच चल रहा है। इनको पढ़ाने के लिए स्पेशलिस्ट डॉक्टर चाहिए। मेडिकल कॉलेज में अंतिम वर्ष का बैच जाने के बाद पीजी का बैच आएगा। उनको पढ़ाने के लिए कॉर्डियोलॉजी, न्यूरोलॉजी, यूरोलॉजी व पीडियाट्रीक सर्जन,यह सब सुपर स्पेशलिस्ट डॉक्टर होते है। जो अगले साल आएंगे।

खबरें और भी हैं...