• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Churu
  • There Is No Water Supply In 3 Cities And 130 Villages For Two Days, The Work Is Being Carried Out By Providing Supply From Tube Wells In The City.

आपणी योजना की लाइन में लीकेज:दो दिन से 3 शहरों और 130 गांवों में पानी सप्लाई नहीं, शहर में नलकूपों से सप्लाई देकर चला रहे काम

चूरू2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लीकेज के पानी को नहर में जनरेटर से छोड़ने के लिए पाइप लगाए। - Dainik Bhaskar
लीकेज के पानी को नहर में जनरेटर से छोड़ने के लिए पाइप लगाए।

चूरू साहवा से 35 किमी दूर चैनपुरा के पास आपणी योजना की मुख्य लाइन (900 एमएम) में लीकेज होने से दो दिन से 3 शहर एवं 130 गांवों को पानी की सप्लाई नहीं हो रही है। ये लीकेज रविवार शाम 6.30 बजे हुआ था। मंगलवार शाम तक मशक्कत के बाद अधिकारी लीकेज को नहीं ढूंढ पाए। मौके पर मौजूद एईएन-जेईएन का कहना है कि भूमिगत 900 एमएम लाइन 12 से 13 फीट गहरी है, ऐसे में गड्ढे में भरे पानी को खाली करने के बाद इस पर काम हाे सकेगा।

अब लीकेज बुधवार शाम तक ठीक हो पाएगा। बुधवार को भी सप्लाई नहीं हो पाएगी। दो दिन से आपणी योजना की सप्लाई नहीं मिलने से चूरू शहर में नलकूपों से सप्लाई देकर काम चलाया जा रहा है, मगर गांवों में लोगों के सामने मुश्किल खड़ी हो गई है। बतादें कि आपणी योजना के सेकंड फेज से चूरू-बिसाऊ स्कीम के 3 शहर एवं 109 गांव जुड़े हैं।

चूंकि भूमिगत 900 एमएम लाइन का लीकेज साहवा के पास है, इसलिए भालेरी क्लस्टर के 21 गांवों में सप्लाई नहीं हो रही है। बतादें कि तीन शहर एवं 130 गांवों को रोज आपणी योजना से 1.60 करोड़ लीटर मीठे पानी की सप्लाई होती है। चूरू शहर को 4.5 एमएलडी यानी 45 लाख लीटर प्रतिदिन सप्लाई होती है।

रविवार शाम को आपणी योजना की मुख्य 900 एमएम लाइन में लीकेज की सूचना मिलने के बावजूद पीएचईडी के अधिकारी सोमवार को कुछ नहीं कर पाए। मंगलवार को भी मौका मुआयना करके लौट आए। मौके पर गए चूरू एईएन मेजर खान एवं जेईएन नितेष ने बताया कि अभी ये कहना मुश्किल है कि लीकेज कितना बड़ा है, क्योेंकि मुख्य 900 एमएम लाइन भूमि में 12 से 13 फीट गहरी है।

पहले गड्ढे से जनरेटर लगाकर पानी निकाला जा रहा है। इस पानी को पास से गुजर रही नहर में छोड़ रहे है, पर अब तक पानी का बहाव हो रहा है, उससे ऐसा लग रहा है कि लीकेज 900 एमएम लाइन के पॉइंट (बैंड) में हो सकता है। 900 एमएम का बैंड मंगवाकर इसकी वेल्डिंग करवाकर बुधवार तक लाइन को सही किया जाएगा।

मुख्य लाइन को बंद किया, 200 मीटर तक मिट‌्टी का कटावमौके पर मंगलवार को पहुंचे पीएचईडी के अधिकारियों ने बताया कि 900 एमएम की लाइन में लीकेज के बाद सप्लाई को बंद करवा दिया गया। अब गड‌्ढ़े में मौजूद पानी को जनरेटर लगाकर पाइप से नहर में छोड़ा जा रहा है। इसके खाली होने के बाद बुधवार को लीकेज को सही किया जाएगा। लीकेज के कारण आसपास के क्षेत्र के 200 मीटर तक मिट्टी का कटाव हो गया।

जलदाय विभाग के चूरू खंड में एईएन-जेईएन के 12 पद खालीजलदाय विभाग का सिस्टम इसलिए भी कमजोर हो गया है कि चूरू खंड में स्वीकृत 15 में से 12 एईएन-जेईएन के पद खाली हैं। हालात ये है कि चूरू शहर एवं ग्रामीण एईएन का काम चूरू एईएन ही संभाल रहे हैं।

48 घंटे में लाइन में लीकेज का पॉइंट तक तय नहीं कर पाए
चूरू से एईएन को भेजा है : एक्सईएनपीएचईडी एक्सईएन कैलाश पूनिया ने बताया कि अभी लीकेज सही नहीं हुआ है। ऐसे में चूरू-बिसाऊ योजना से जुड़े 130 गांव व तीन शहरों में बुधवार को आपणी योजना के मीठे पानी की सप्लाई नहीं होगी। उन्होंने बताया कि चूरू से एईएन मेजर खान को भेजा गया है। चूरू शहर में ट्यूबवैल से पानी दिया जा रहा है।

चूरू-बिसाऊ योजना से 109 गांव, 3 शहर (चूरू, रतननगर व बिसाऊ) और भालेरी क्लस्टर के 21 गांव को होती है आपणी योजना के मीठे पानी की सप्लाई।

खबरें और भी हैं...