पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गेहूं उठाया:दो राशन डीलर भाइयों ने लालच में आकर अपनी मृत मां के नाम पर 6 साल तक गेहूं उठाया

सरदारशहर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कस्बे में राशन डीलर दो भाइयों ने लालच में आकर अपनी मृत मां के नाम पर फायदा उठाते रहे। छह साल तक लगातार मृत मां के नाम पर गेहूं उठाए जाने का मामला सामने आने पर विभाग भी हरकत में आया है। दाेनाें राशन डीलर सगे भाई हैं और अलग-अलग वार्डाें में दाेनाें के राशन डिपाे हैं। दाेनाें भाइयों ने अक्टूबर, 2014 से लेकर जुलाई, 2020 तक लगातार छह साल तक अपनी मृत मां के नाम पर 34.25 क्विंटल गेहूं उठा लिया।

अब रसद विभाग दाेनाें भाइयाें से 27 रुपए प्रति किलाे के गेहूं के हिसाब से 92475 रुपए की वसूली करेगा। इसके साथ ही विभाग की तरफ से दाेनाें डीलराें के खिलाफ मामला भी दर्ज करवाया जाएगा। रसद विभाग के अधिकारियाें काे कुछ दिन पूर्व इस घपले की शिकायत मिली थी।

34.25 क्विंटल गेहूं उठाया, अब दाेनाें से होगी 92 हजार रु. की वसूली

रसद विभाग के प्रवर्तन अधिकारी डाॅ. पंकज शर्मा ने बताया कि दाेनाें राशन डीलराें के खिलाफ राशन वितरण में गड़बड़ी करने की शिकायत मिली थी। जिला रसद अधिकारी सुरेंद्रसिंह महला के निर्देशाें के बाद दाेनाें डीलरों की जांच की गई। जांच में सामने अाया कि डीलर सलीम हुसैन ने पोस मशीन नं. 18899 से 21.43 क्विंटल गेहूं व सदाम हुसैन पोस मशीन नं 29051 से 12.82 क्विंटल गेहूं अपनी मृत मां के नाम पर उठाया है।

दोनों की मां का इंतकाल सितंबर, 2014 में हाे गया था। दाेनाें भाई अक्टूबर, 2014 से लेकर जुलाई 2020 तक लगातार गेहूं उठाते रहे। पांच जुलाई काे दाेनाें भाइयाें के लाइसेंस निलंबित कर दिए गए हैं और इनके खिलाफ थाने में मामला भी दर्ज कराया जाएगा। दाेनाें कई राशन कार्डाें में फर्जी तरीके से नाम जुड़वाकर भी गेहूं उठा रहे थे।

फर्जी राशन कार्ड बनवाया, मुखिया का नाम बदल परिवार के अन्य सदस्यों के नाम जोड़े
डीएसओ महला ने बताया कि दाेनाें भाइयाें के पिता के नाम से राशन कार्ड था, जिसमें उनकी मृत मां सहित परिवार के अन्य लाेगाें के नाम थे। यह राशन कार्ड बीपीएल श्रेणी का था। इसके बाद दाेनाें ने एक अाैर फर्जी राशन कार्ड एपीएल श्रेणी का बना लिया। मुखिया बदलकर परिवार के अन्य सदस्याें के नाम जाेड़ दिए गए। एक राशन कार्ड से जुलाई 2020 तक व दूसरे राशन कार्ड से मई 2021 तक गेहूं उठता रहा।

दोनों डीलर अनुचित तरीके के गेहूं उठा रहे थे। जांच करने के बाद दाेनाें के लाइसेंस निलंबित कर िदए गए हैं। 34.25 क्विंटल गेहूं की वसूली 27 रुपए प्रति किलाे के हिसाब से की जाएगी। दाेनाें से 92 हजार 475 रुपए वसूल किए जाएंगे।-सुरेंद्र महला, जिला रसद अधिकारी, चूरू

इस पूरे घपले के संबंध में वार्ड 30 डीलर सलीम हुसैन ने बताया कि एेसा काेई घाेटाला हमने नहीं किया है। चुनावी रंजिश के चलते झूठी शिकायत की गई थी, इसके बाद राजनीति के चलते हमें फंसाया जा रहा है।

भास्कर का सवाल- 6 साल क्या कर रहा था रसद विभाग?

इस पूरे मामले में रसद विभाग की अनदेखी पर भी सवाल उठ रहे हैं, लगातार छह साल तक दाेनाें भाई राशन उठाते रहे अाैर विभाग काे इसकी जानकारी भी नहीं हुई। जबकि, समय-समय पर विभाग के अधिकारी राशन डीलराें के यहां निरीक्षण करते हैं और नाम व स्टाॅक संबंधी जानकारी लेते हैं। उक्त मामले में वार्ड के ही एक व्यक्ति ने फरवरी 2021 में रसद विभाग में आरटीआई लगाकर भी जानकारी मांगी थी, जिसकी जानकारी नहीं दी गई। इसके बाद उक्त व्यक्ति ने एसडीएम सहित अन्य अधिकारियाें काे शिकायत की, जिसके बाद हुई जांच में यह घपला सामने आया। दूसरे लोगों के कार्ड में फर्जी नाम जोड़कर भी राशन उठाया : मामले की जांच करने पर पता चला कि दाेनाें भाई अपनी मां के नाम के अलावा कई राशन कार्डाें में दूसरे लाेगाें का नाम जाेड़कर भी गेहूं उठा रहे थे। सलीम हुसैन वार्ड 30 व सद्दाम हुसैन वार्ड 26 का राशन डीलर है। दाेनाें भाई सरदारशहर के वार्ड 36 में रहते हैं।

खबरें और भी हैं...