पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

श्मशानों से अस्थियों का संचय:18 दिन में 346 मौत; इनमें कोविड प्रोटोकॉल से 34 का अंतिम संस्कार, कोरोना से 20 ही मौत बताई

झुंझुनूं11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भास्कर ने 72 श्मशान घाटों से जुटाया मौतों का आंकड़ा, सवाल-कोरोना से 20 मौत ऑन रिकॉर्ड तो बाकी कैसे हुई

कोरोना के इस महासंकट में सरकार और प्रशासन मौतों का सच छिपा रहे हैं। जिले के बड़े कस्बों और गांवों में पिछले 18 दिन में कोविड प्रोटोकॉल से 34 अंतिम संस्कार किए गए जबकि सरकारी आंकड़ों के अनुसार कोरोना से मौत 20 ही हुई हैं, लेकिन मौत के आंकड़ों का सच इतना भर नहीं है। मौत के आंकड़ों का सच जानने के लिए दैनिक भास्कर के 20 संवाददाता 16 अप्रैल से लेकर 3 मई सवेरे 11 बजे तक जिले के 72 श्मशान घाटों में पहुंचे।

बड़े शहरों की तरह हमारे यहां श्मशान घाटों में अंतिम संस्कार का रिकॉर्ड नहीं रखा जाता। कई जगहों पर तो खेतों में अंतिम संस्कार हो रहे हैं, लेकिन भास्कर संवाददाताओं ने वहां देखरेख करने वाले व्यक्तियों, आसपास के लोगों, ग्रामीणों आदि से बातचीत कर जाना कि इन 16 अप्रैल से अब तक वहां कुल कितने अंतिम संस्कार हुए। इनमें कोरोना प्रोटोकॉल से कितने थे, कोरोना मरीजों के कितने थे और इनके अलावा कितने थे।

कुल मौतों का जो आंकड़ा सामने आया वह चौंका देगा। इन सभी श्मशानों घाटों में कुल 346 अंतिम संस्कार हुए। सरकारी आंकड़ें केवल 20 मौत काेरोना से मान रहे। बाकी मौत कैसे हुई यह पता लगाना मुश्किल है, लेकिन महज 18 दिन में इतनी अधिक मौत कई सवाल खड़े करती हैं।

सरकारी आंकडे - 18 दिन में कोरोना से कब कितनी मौत हुई
चिकित्सा विभाग की माने तो जिले में 20 अप्रैल को 1, 21 को 1, 22 को 2, 25 को 1, 27 को 2, 28 को 2, 29 को 2, 30 को 2, एक मई को 1 और दो को 05 तथा तीन को 01 मौत हुई। यानी 16 अप्रैल के बाद जिले में 20 मौत कोरोना से हो चुकी हैं।

सच छिपाने का सबूत : काेविड प्रोटोकॉल से लोगों का अंतिम संस्कार तो कर रहे, लेकिन इनका कारण कोराेना नहीं बता रहे

पिलानी, कोरोना से मौतों का सच कैसे छिपाया जा रहा है। भास्कर इसके सबूत भी लाया। पिलानी के निकट बेरी गांव में ऐसे मामले सामने आए। यहां कोरोना से एक मई को तीन मौत हुई, लेकिन इनमें से केवल एक माैत को कोरोना से बताया गया, वह भी अगले दिन यानी दो मई को। एक मई को बीसीएमओ को इनमें से किसी मौत की जानकारी नहीं थी।

भास्कर ने उसी दिन बेरी निवासी वेदपाल सिंह से बात की तो उन्होंने बताया कि उसके चाचा बेरी सरपंच पति विनोदसिंह पुत्र भगवानसिंह व प्रमोद सिंह पुत्र फूलसिंह तथा बजरंग सिंह की पत्नी पिछले आठ दिन से बीडीके अस्पताल झुंझुनूं में भर्ती थे। इनकी एक मई को कोरोना से मौत हो गई। तीनों का अंतिम संस्कार कोविड प्रोटोकोल से हुआ।

पिलानी में 14 पॉजिटिव का हुआ अंतिम संस्कार : 16 अप्रैल के बाद पिलानी स्थित भूतनाथ मुक्तिधाम में 18 दिन के दौरान कोरोना संक्रमण की गाइड लाइन की पालना के अनुसार 14 जनों का अंतिम संस्कार किया गया। भूतनाथ में एक मई को सबसे ज्यादा पांच कोरोना संक्रमित मृतकों की अंत्येष्टि हुई। इससे पहले 30 अप्रैल को ही 3 शवों का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार हुआ था। जबकि रविवार को एक व शनिवार को तीन बेरी गांव में कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार हुआ है।

इसके अलावा नवलगढ़, सिंघाना व मलसीसर क्षेत्र के मुक्तिधाम में भी तीन-तीन शवों को कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार हुआ था। भूतनाथ मुक्तिधाम पिलानी के दीपक महाराज का कहना है कि यहां पिछले दो-तीन दिन में कई अंतिम संस्कार हुए। वे बताते हैं कि इस तरह एक के बाद एक अंतिम संस्कार का माहौल पहली बार है।

सिंघाना क्षेत्र में सबसे ज्यादा 41 लोगों की हुई मौत

सिंघाना, सिंघाना क्षेत्र के मुक्तिधाम व कब्रिस्तान में सबसे ज्यादा 41 जनों की अंत्येष्टि हुई है। इसके अलावा जसरापुर क्षेत्र के गांवों में 37, पिलानी में 29, झुंझुनूं में 27, मलसीसर में 25, नवलगढ़ में 23 तथा खेतड़ी क्षेत्र में 20 शवों का अंतिम संस्कार किया गया। है। सिंघाना सरपंच विजय कुमार शर्मा बताते हैं कि कस्बे में पिछले 15 दिन में 11 जनों की मौत हुई है। इनमें एक कोरोना पॉजिटिव सामने आया है।

मैंने पहली बार इस तरह का माहौल देखा है। मेरा मानना है कि काेरोना बीमारी के कारण अन्य बीमारियों से पीडित लोगों को समय पर संसाधन व इलाज नही मिलने के कारण भी मौत होने का कारण हो सकता है। इधर, झुंझुनूं में रोड नंबर तीन स्थित मुक्तिधाम की देखरेख करने वाले महेंद्र मोरवाल का कहना है कि पिछले 14 साल से मुक्तिधाम में व्यवस्थाओं को देख रहे है। यहां होने वाले सभी अंतिम संस्कार का रिकॉर्ड रजिस्टर में है। अब मौतें ज्यादा हो रही हैं।

डिस्क्लैमर : यह खबर आपको विचलित कर सकती है। ये सभी मौतें भी कोरोना से नहीं हुई, लेकिन मौजूदा हालात में प्रशासन को हर मौत का कारण नोट करना चाहिए, ताकि वास्तविक स्थित सामने आ सके।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें