सिंघाना में व्यापारी की दुकान के बाहर फायरिंग का मामला:एफआईआर वापस लेने और जान से मारने की धमकी देने वाला आरोपी रणजीत सिंह उर्फ अजीत गुर्जर गिरफ्तार, मुख्य आरोपी लोकेश गुर्जर अभी भी फरार

झुंझुंनू2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्तार आरोपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस की गिरफ्तार आरोपी।

झुंझुनू के सिंघाना में व्यापारी मनीष चौधरी को फोन पर जान से मारने की धमकी देने वाले आरोपी को ​गिरफ्तार करने में पुलिस को सफलता मिली है। झुंझुनू एसपी मनीष त्रिपाठी ने बताया कि 26 अगस्त को सिंघाना के व्यापारी मनीष चौधरी को वॉट्सऐप पर 20 लाख रुपये की रंगदारी मांगने का व्हाट्सएप कॉल आया था। उसके बाद रंगदारी नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी गई थी।

5 मिनट बाद ही दिनदहाड़े बाइक सवार दो बदमाशों ने दुकान के बाहर फायरिंग की और शोरूम के अंदर घुस गए और कर्मचारियों को धमकाया। उसके बाद दोनों बदमाश मौके से फरार हो गए।घटना के बाद पीड़ित ने मामला दर्ज करवाया था।घटना के अगले दिन पीड़ित के मोबाइल पर दोबारा धमकी भरा कॉल आया। कॉल करने वाले ने खुद को रणजीत सिंह बताया और कहा की एफआईआर वापस ले लो नहीं तो परिवार में कोई भी रोटी देने वाला नहीं बचेगा।धमकी देने वाले बदमाश ने कहा की एफआईआर वापस नहीं ली तो परिवार का कुत्ता तक भी मार दिया जाएगा।

व्यापारियों में आक्रोश के चलते पुलिस पर था दबाव

फायरिंग और लगातार मिल रही धमकियों के बाद झुंझुनू एसपी मनीष त्रिपाठी और एडिशनल एसपी वीरेंद्र मीणा के निर्देशन में टीम का गठन किया गया।पुलिस ने आरोपियों की तलाश के लिए ​हरियाणा, नारनौल, सिंघाना, सीकर, नीम का थाना और जयपुर ग्रामीण में आरोपियों के संदिग्ध ठिकानों पर दबिश दी गई। दबिश के दौरान पुलिस ने गैंग के छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया था। गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ के दौरान पुलिस को फोन पर धमकी देने वाले सीकर निवासी रणजीत सिंह उर्फ अजीत की सूचना मिली कि आरोपी डोकन गांव की पहाड़ियों के पास घूमता हुआ देखा गया है।

पुलिस ने तुरंत इलाके में दबिश देकर आरोपी को डोकन की पहाड़ी से गिरफ्तार कर लिया।पुलिस अब तक रोहन उर्फ जसपाल,धर्मेंद्र कुमार ऊर्फ धर्मा,बलबीर, घीसाराम,वीर सिंह और अनिल कुमार को गिरफ्तार कर चुकी है।सभी शातिर बदमाश बताये जा रहे हैं।

धमकाने वाले आरोपी रणजीत सिंह उर्फ अजीत के खिलाफ 11 मुकदमे दर्ज

धमकी देने वाले गिरफ्तार आरोपी रणजीत सिंह उर्फ अजीत हार्डकोर बदमाश है। वहीं, आरोपी के खिलाफ आपराधिक रिकॉर्ड की एक लंबी फेहरिस्त पुलिस को मिली है। आरोपी के खिलाफ 11 मुकदमे पाटन, प्रागपुरा, कोटपूतली,​ बहरोड़, नीम का थाना और माण्डन थाने में दर्ज हैं।आरोपी के खिलाफ आर्म्स एक्ट,मारपीट और धमकाने के सबसे ज्यादा मामले दर्ज है। पूरे मामले में अभी तक 5 हजार का इनामी मुख्य आरोपी लोकेश गुर्जर पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है। पुलिस की टीमें हरियाणा,सीकर,सिंघाना और जयपुर ग्रामीण में आरोपी के अलग अलग ठिकानों पर लगातार दबिश देकर आरोपी की तलाश कर रही है।

खबरें और भी हैं...