हादसा / कैंपर पेड़ से टकरा पलटी, पुलिया निर्माण देखकर लौट रहे रेलवे के दो कर्मचारियों समेत 3 की मौत

X

  • बख्तावरपुरा के पास सड़क हादसा, एक गंभीर घायल, मनीष का एक साल पहले ही हुआ था विवाह

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 07:13 AM IST

बगड़. बख्तावरपुरा व काटली नदी के गोगाजी मंदिर के निकट शनिवार दोपहर में एक तेज रफ्तार बोलरो कैंपर अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराकर पलट गई। हादसे में रेलवे के दो कर्मचारियों समेत तीन की मौत हो गई। जबकि एक घायल हो गया। जानकारी के मुताबिक चारों रतनशहर रेलवे स्टेशन पर रेलवे पुलिया की जानकारी लेकर चिड़ावा जा रहे थे। रेलवे में ट्रॉली मैन कोटड़ी उदयपुरवाटी निवासी रामलाल यादव, रामपुरा मलसीसर निवासी विकास खीचड़ (31), मैट चिड़ावा निवासी हरिसिंह (45) और रेलवे में अनुबंध पर लगी कैंपर के चालक डांगर निवासी मनीष (27) रतनशहर से चिड़ावा जा रहे थे।

बख्तावरपुरा से कुछ पहले उनकी  कैंपर अनियंत्रित हो कर पेड़ से जा टकराकर पलट गई। तीन जनों को 108 से बगड़ सीएचसी पहुंचाया। जहां पर डाॅक्टरों ने हरिसंह व विकास को मृत घोषित कर दिया। रामलाल को रैफर कर दिया। वहीं गाड़ी चालक मनीष गाड़ी के नीचे दबने से पहले ही दम तोड़ चुका था। पुलिस ने लोगों की मदद से कैंपर गाड़ी को उठाया तो उसके नीचे भी एक युवक दबा हुआ मिला। रेलवे अधिकारियों ने बताया कि ये लोग रतनशहर के पास चल रहे पुलिया निर्माण कार्य को देखकर लौट रहे थे। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिए।
रामपुरा के विकास की मां का 6 माह पहले ही हुआ था निधन
हादसे में जान गंवाने वाला रामपुरा मलसीसर निवासी विकास खीचड़ तीन बहनों का इकलौता भाई था। उसके एक तीन साल की बेटी है। छह माह विकास की मां का निधन हो गया था। पत्नी व बेटे की मौत के बाद उनके पिता ताराचंद पर दुखों का पहाड़ टूट गया। डांगर निवासी मनीष अनुबंध पर रेलवे के लिए कैंपर चलाता था। पिछले साल उसकी उसकी शादी हुई थी। हादसे के बाद उसके परिवार पर संकट अा गया। चिड़ावा में रेलवे स्टेशन के पास रहने वाले हरिसिंह अपने पिता बजरंग सिंह की जगह रेलवे में अनुकंपा पर नौकरी लगे थे। पिछले साल उनका प्रमोशन हुअा था। उनका एक बेटा देवेंद्र चिड़ावा में दूध का व्यवसाय करता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना