अस्पताल में प्रसूता की मौत का मामला:जांच कमेटी की रिपोर्ट के बाद डॉक्टर समेत 3 के खिलाफ इलाज में लापरवाही का केस

चिड़ावा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सेहीकलां पंचायत के गांव बुडानिया का बास उधमपुरा निवासी प्रसूता रूपा पत्नी दीपक की मौत के मामले में पुलिस ने शनिवार को मुकदमा दर्ज कर लिया। मृतका के जेठ सुनील की रिपोर्ट पर पारस अस्पताल के डॉ. नरेंद्र, चिड़ावा सीएचसी की एएनएम मनेषु और बगड़ सीएचसी की जीएनएम मंजू बेनीवाल के खिलाफ उपचार में लापरवाही बरतने का मामला दर्ज किया गया है। गौरतलब है कि चार सितंबर सुबह प्रसव पीड़ा होने पर परिजन रूपा को चिड़ावा के सरकारी अस्पताल लेकर आए।

दर्ज रिपोर्ट के अनुसार अस्पताल की एएनएम मनेषु ने प्रसव निजी अस्पताल में करवाने की बात कह कर रूपा व उसके परिजनों को पारस अस्पताल ले गई। जहां प्रसव के बाद प्रसूता की तबियत बिगड़ गई। जिसे दूसरे दिन झुंझुनूं और फिर वहां से जयपुर रैफर कर दिया गया। जहां 14 सितंबर को रूपा की मौत हो गई। जिससे आक्रोशित परिजनों और ग्रामीणों ने चिड़ावा पहुंचकर पारस अस्पताल के सामने प्रसूता का शव रखकर चार घण्टे प्रदर्शन किया।

इसके कारण दूसरे दिन भी दोपहर तक पोस्टमार्टम नहीं हो सका। परिजनों की मांग पर सीएमएचओ ने प्रकरण में अस्पताल संचालक डॉ. नरेंद्र, चिड़ावा की एएनएम मनेषु व बगड़ जीएनएम मंजू बेनीवाल की भूमिका की जांच के लिए झुंझुनूं आरसीएचओ की अगुवाई वाली कमेटी गठित की। कमेटी की रिपोर्ट मिलने पर उपरोक्त तीनो लोगों के खिलाफ धारा 304 ए व 120 बी के तहत मामला दर्ज किया गया।

खबरें और भी हैं...