पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मंडे पॉजिटिव:कोरोना में अभिभावक खोने वाले बच्चों को पालनहार योजना का मिलेगा लाभ

झुंझुनूं23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ने शुरू कराया सर्वे

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग जिले में कोरोना के दौर में अभिभावक खोने वाले बच्चों को पालनहार योजना में शामिल करेगा। विभाग जिले में ऐसे परिवार का सर्वे करवा रहा है। सहायक निदेशक नरेश बारोठिया ने बताया कि जिले में ऐसे परिवारों का सर्वे किया जा रहा है, जिनमें माता व पिता दोनों की मृत्यु कोरोना से होने, माता या पिता में से एक की मृत्यु कोरोना से होने, माता या पिता में से एक की मृत्यु कोविड 19 से तथा एक की मृत्यु कोविड 19 से पूर्व हो चुकी हो। ऐसे परिवार जिनमें एक मात्र कमाने वाले सदस्य की मृत्यु कोरोना से हो गई। इन चयनित परिवारों को पालनहार योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करवाकर लाभ दिलवाया जाएगा।

ये मिलेगा लाभ : प्रत्येक अनाथ बच्चे के लिए पालनहार परिवार को 5 वर्ष की आयु तक के बच्चे के लिए 500 रुपये प्रतिमाह की दर से तथा स्कूल में प्रवेशित होने के बाद 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने तक 1000 रुपये प्रतिमाह की दर से अनुदान उपलब्ध कराया जाता है। इसके अतिरिक्त वस्त्रा, जूते, स्वेटर एवं अन्य आवश्यक कार्य के लिए 2000 रुपये प्रति वर्ष प्रति अनाथ की दर से वार्षिक अनुदान भी उपलब्ध कराया जाता है।

योजना के उद्देश्य : अनाथ बच्चों के पालन-पोषण, शिक्षा आदि की व्यवस्था संस्थागत नहीं की जाकर समाज के भीतर ही बालक-बालिकाओं के निकटतम रिश्तेदार, परिचित व्यक्ति के परिवार में करने के लिए इच्छुक व्यक्ति को पालनहार बनाकर राज्य की ओर से पारिवारिक माहौल में शिक्षा, भोजन, वस्त्र एवं अन्य आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराना है। राज्य सरकार द्वारा संचालित यह योजना सम्पूर्ण भारत वर्ष में अनूठी योजना है।

खबरें और भी हैं...