कोरोना की तेज रफ्तार / लापरवाही से वापस लौटा कोरोना, 9 दिन में 35 केस आए, इनमें 75% पॉजिटिव छुपकर ट्रकों से पहुंचे

Corona returned casually, 35 cases came in 9 days, 75% of these positives came from trucks by hiding
X
Corona returned casually, 35 cases came in 9 days, 75% of these positives came from trucks by hiding

  • लोग छिपते छिपाते घरों में आ रहे, ऐसे में जांच भी नहीं हो रही, इसलिए तेजी से बढ़ रहे मामले

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:22 AM IST

झुंझुनूं. कोरोना के इस संकट मेंं सभी घर लौटना चाहते हैं, लेकिन कुछ लोगों की जल्दबाजी और असुरक्षित तरीका अब जिले में कोरोना विस्फोट का कारण बनता जा रहा है। 12 मई के बाद नौ दिन की बात करें ताे यहां 35 नए मामले सामने आ चुके हैं। इनमें केवल एक स्थानीय व्यक्ति पॉजिटिव है। शेष सभी रेड जोन वाले राज्यों से लौटे लोग हैं। इनमें से करीब 75 प्रतिशत मरीज ऐसे हैं। जो छुपकर ट्रकों में यहां पहुंचे और उनकी कहीं कोई जांच नहींं हुई। नतीजा यह रहा कि मार्च के अंतिम दो सप्ताह और अप्रेल के पहले दो सप्ताह तक जितने मामले नहीं थे। उससे अधिक मई के महज 9 दिन में आ गए। इन नौ दिन में कुुल 35 मामले सामने आए हैं। जिनके कारण जिले में कोरोना के मरीज अप्रेल तक मिले मरीजों से करीब करीब दुगुने होते जा रहे हैं।
मार्च और अप्रेल के 44 दिन में जिले में 42 काेराेना पाॅजिटिव मिले थे। यह 25 अप्रेल तक का आंकड़ा है और अब इनकी संख्या 77 है। जिले में पहली बार 18 मार्च काे काेराेना संक्रमण सामने आया था। एक ही दिन में झुंझुनूं में इटली से लौटे पति पत्नी और उनकी बेटी संक्रमित मिली थी। इसके बाद यह संख्या बढ़ती गई। पहले विदेशी प्रवासी इसके बाद जमात और अब देश के अलग अलग राज्यों से लौटे रहे प्रवासियों के कारण जिले में कोरोना इन तीन केस से 77 तक पहुंंच गया। हालाकि 25 अप्रेल तक प्रशासन ने स्थिति नियंत्रित कर ली थी, लेकिन अब लॉकडाउन खुलने के बाद मिली छूट के कारण यह लगातार बढ़ रहा है। जाहिर सी बात है कि इस छूट का दुरुपयोग हमें कोरोना विस्फोट की ओर ले जा रहा है।
जिले में कोरोना के तीन चरण, तीसरे चरण के 11 दिन में आ गए 35 पॉजिटिव
पहला चरण : 18 मार्च से 31 मार्च
31 मार्च तक 8 केस मिले। इनमें इटली से लाैटे 03, अरब देशाें से आए 04 और फिलीपींस से लाैटा एक मेडिकल युवक था। समय रहते क्वारेंटाइन करने से 31 मार्च तक रोजाना एक दो केस ही आने लगे।
दूसरा चरण :एक अप्रेल से 25 अप्रैल
1 अप्रेल से 25 अप्रेल के बीच 34 नए मामले सामने आए। इनमें विदेश से लाैटे तीन, मरकज से आए 13, जमात के संपर्क में आएए 14 जनें संक्रमित मिले। इनके अलावा 04 जनें इलाज के दाैरान संक्रमित पाए गए। 
तीसरा चरण : 12 मई से विस्फोटक स्थिति
25 अप्रेल से लेकर जिले में 11 मई तक जिले में कोई नया केस सामने नहीं आया। 12 मई से वापस कोरोना के मामलेे शुरू हो गए और मई माह में ही अब तक 35 केेस सामने आ चुके हैं।
ऐसे समझें बढ़ी रफ्तार काे
पहले जहां हर दिन औसत एक मरीज सामने आया था। मई के तीसरे सप्ताह में हर दिन औसत चार मरीज मिलने से ये रफ्तार चार गुनी हाे चुकी है। अप्रैल के पहले सप्ताह में 15 संक्रमित मिले और दूसरे में ये 09 मरीज सामने आए। वहीं तीसरे में 8 और चाैथे सप्ताह में 02 मरीज मिले, लेकिन मई के पहले सप्ताह में काेई केस नहीं आया ताे दूसरे सप्ताह में 11 केस मिले। इसके बाद तीसरे सप्ताह में 24 संक्रमित मिल चुके हैं।
चिंता: अब नए क्षेत्रों में फैल रहा 
काेराेना संक्रमण के पहले और दूसरे चरण में काेराेना से बचे रहे जिले के भागाें में तीसरे दाैर में काेराेना तेजी से फैल रहा है। चिड़ावा, बुहाना, सूरजगढ़ और उदयपुरवाटी में पहले दाे चरण में काेराेना संक्रमण का एक भी मामला नहीं था। अब बुहाना में दाे, चिड़ावा में चार, नवलगढ़ व खेतड़ी में 12-12, सूरजगढ़ में तीन, मलसीसर में चार मामले सामने आए हैं। वहीं झुंझुनूं शहर में 9, झुंझुनूं ग्रामीण में 7 संक्रमित मिल चुके हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना