पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समस्या के समाधान की मांग को लेकर प्रदर्शन:ओजटू व मंड्रेला में पानी को लेकर महिलाओं का प्रदर्शन, अधिकारियों का घेराव करने की चेतावनी

चिड़ावा/झुंझुनूं25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मंड्रेला. उच्च जलाशय के सामने प्रदर्शन करती महिलाएं। - Dainik Bhaskar
मंड्रेला. उच्च जलाशय के सामने प्रदर्शन करती महिलाएं।

ओजटू पंचायत की आकावाली ढाणी निजामपुरा में दो बोरवैल सूख जाने से लोग डेढ़ वर्ष से परेशान है। कुओं में पानी नही होने के कारण टंकी पूरी भर नहीं पाती। जिसके चलते क्षेत्रवासियों को बढ़ती गर्मी में पानी की किल्लत उठानी पड़ रही है।

पूर्व उप सरपंच प्रेमप्रकाश सैनी, बीरबल, राजेंद्र प्रसाद, रामकुमार, सीताराम ने बताया कि पिछले वर्ष विधायक जेपी चंदेलिया के सामने भी पानी की समस्या सुलझाने की मांग कर चुके, लेकिन समाधान नहीं हुआ। विभाग में भी सुनवाई नहीं होने की बात कही। पानी नहीं मिलने के कारण लोगों को अपना पशुधन बेचना पड़ रहा है।

समस्या को लेकर शनिवार को ढाणी की महिलाओं ने सूखी टंकी के सामने खाली बर्तन लेकर विरोध जताया। लोगों ने समस्या का जल्द समाधान नहीं होने पर अधिकारियों का घेराव करने की चेतावनी दी।

मंड्रेला के वार्ड 23, 24 व 25 में संकट, महिलाओं ने मटके फोड़े

मंड्रेला, कस्बे के वार्ड 23, 24 व 25 के घरों तथा पुराने बस स्टैंड पर चार रोज से पेयजल समस्या से जूझ रहे उपभोक्ताओं ने प्रदर्शन किया। कस्बे के माधव कॉलोनी स्थित उच्च जलाशय से पानी सप्लाई किया जाता है। जो अब नहीं आ रहा है। ऐसे में महिलाओं, बच्चों तथा पुरुषों को एक-एक बाल्टी के लिए भटकना पड़ रहा है। कई घरों में 400 रुपए खर्च करके टैंकर से पानी मंगवाना पड़ रहा है।

शनिवार को संबंधित वार्डों की महिलाओं ने उच्च जलाशय के सामने नारेबाजी करके व मटके फोड़कर प्रदर्शन किया। इस संबंध में जलदाय विभाग, चिड़ावा के एईएन विजय कल्याण का कहना है कि कुछेक वार्डों में गत चार रोज से पानी की समस्या चल रही है। इसका कारण है कि इस उच्च जलाशय में स्थित ट्यूबवेलों से पानी की आपूर्ति की जा रही है तथा जखोड़ा गांव में गत चार रोज से बिजली आपूर्ति लड़खड़ाई हुई है।

मंडावा, गर्मी शुरू होते ही पीने के पानी की समस्या बढ़ने लगी है। करीब 1 माह से शहर के वार्डों में पानी की समस्या बनी हुई है। इसे लेकर लोगों में आक्रोश है। शनिवार को वार्ड 18 व 19 के लोगों ने आक्रोश जताते हुए कहा कि यदि पानी नहीं तो बिल भी जमा नहीं कराएंगे। लोगों का कहना है कि वार्ड पार्षद से लेकर विधायक रीटा चौधरी को भी समस्या से अवगत करवा दिया है। लेकिन समाधान नहीं हुआ। धरना देने की चेतावनी दी है।

टैंकरों से बुझती है प्यास : पिछले एक माह से भामाशाह के सहयोग से मोहल्ले में टैंकरों से पानी सप्लाई किया जाता है। इसी से प्यास बुझाई जाती है। लेकिन पशुओं को पिलाने के लिए भी पानी की बड़ी समस्या रहती है। इस बारे में स्थानीय जलदाय विभाग जेईएन सविता चौधरी से बात करने पर उन्होंने सिर्फ आश्वासन दिया है। आश्वासन के अलावा कुछ नहीं दिया जिसके चलते लोगों में आक्रोश है।

खबरें और भी हैं...